हत्या कर बोरिंग मिस्त्री का पेड़ से लटकाया शव, चार के खिलाफ मुकदमा दर्ज

- in Main Slider, क्राइम, लखनऊ
फ़ाइल फोटो रंजीत उर्फ सोनू

लखनऊ। सरोजनीनगर में शनिवार को एक बोरिंग मिस्त्री युवक का शव संदिग्ध परिस्थितियों में आम के पेड़ से दुपट्टे के सहारे लटका मिला है। उसके शरीर के कमर से नीचे का हिस्सा जमीन पर पड़ा था, जबकि ऊपरी हिस्सा दुपट्टे के सहारे लटक रहा था। जानकारी पाकर पहुंचे ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। इस मामले में मृतक के परिजनों ने गांव के ही चार युवकों पर उसकी हत्या कर शव लटकाए जाने का संदेह जताया है। पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच पड़ताल कर रही है।

सरोजनीनगर के गहरू गांव निवासी रामखेलावन गौतम का बेटा रंजीत उर्फ सोनू 22 बोरिंग का काम करता था। बताते हैं कि दीपावली के अवसर पर गुरुवार देर शाम गांव के ही कुछ लड़कों के साथ जुआं खेलने के दौरान उनसे उसका विवाद हो गया। परिजनों का आरोप है कि इस दौरान गांव के रवि, राजन, पंकज और अंकुर ने मिलकर रंजीत की वहीं पर पिटाई कर दी। बुरी तरह पिटने के बाद वह किसी तरह वहां से भागकर घर पहुंचा।

आरोप है कि अगले दिन शुक्रवार को आरोपी लड़के फिर उसके घर पहुंच गए और रंजीत को घर पर न पाने से नाराज आरोपियों ने उसके परिजनों से गाली-गलौज करने के अलावा रंजीत को जान से मारने की धमकी देते हुए वहां से चले गए।

शनिवार सुबह करीब 6 बजे ग्रामीण शौच के लिए निकले तो गांव के बाहर जगन्नाथ की आम की बाग में आम के पेड़ से दुपट्टे के सहारे रंजीत का शव लटका मिला। उन्होंने इसकी सूचना मृतक के परिजनों को दी। बाद में जानकारी पाकर पहुंची पुलिस ने शव को उतरवाकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस मामले में मृतक के पिता राम खेलावन ने गांव के ही रवि, राजन, पंकज और अंकुर पर रंजीत की हत्या कर उसका शव लटकाए जाने का संदेह जताया है।

ये भी पढ़ें:- पूर्व सांसद धनंजय सिंह के खिलाफ रगंदारी व हत्या की धमकी देने का मामला दर्ज 

पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर रही है। जानकारों की माने तो पेड़ से लटक रहा मृतक का शव खुद हत्या की ओर इशारा कर रहा था। क्योंकि पेड़ की जिस डाल से दुपट्टे के सहारे उसका शव लटक रहा था उसकी ऊंचाई जमीन से करीब 6 फीट होगी और उसके शव का आधा हिस्सा जमीन पर ही पड़ा था। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि हत्यारों ने उसकी हत्या करने के बाद शव को पेड़ से लटका दिया होगा।

बताया जा रहा है कि मृतक बोरिंग मिस्त्री होने के अलावा एसी मर मत का भी काम करता था। बताते हैं कि कुछ दिनों पहले वह एसी मर मत का काम करने मुंबई गया था। जहां से करीब 4 माह पहले ही वापस लौटा था। इस बीच वह कभी बोरिंग तो कभी एसी मर मत का काम भी करता रहता था।

घटना स्थल पर मिले संघर्ष के निशान

मृतक बोरिंग मिस्त्री का शव जहां पर पेड़ से लटक रहा था, वहीं पर जमीन में संघर्ष के निशान पाए गए हैं। जबकि मृतक का मोबाइल वहां से कुछ दूर पर पड़ा मिला। वहीं जिस दुपट्टे के सहारे रंजीत का शव लटक रहा था, उस दुपट्टे को परिजनों ने अपने घर का होने से इनकार किया है। उनका कहना है कि हत्यारों ने कहीं से खुद दुपट्टा लाकर उसे आत्महत्या का रूप देने के लिए उसके सहारे शव लटका दिया।

पुलिस की लापरवाही उजागर

बोरिंग मिस्त्री के परिजनों की मानें तो गुरुवार को जुआं खेलने के दौरान हुई मारपीट के बाद रंजीत मामले की रिपोर्ट दर्ज कराने खुद सरोजनीनगर थाने पहुंचा, लेकिन पुलिस ने उस समय उसकी रिपोर्ट नहीं दर्ज की। बल्कि उसे डांट फटकार कर वहां से भगा दिया।

पीडि़त परिजनों का आरोप है कि अगर पुलिस ने उसी दिन रिपोर्ट दर्ज करके आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की होती तो शायद यह घटना ना होती।

आक्रोशित परिजनों ने किया कानपुर रोड जाम

पुलिस की लापरवाह कार्यशैली से नाराज मृतक के परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर शनिवार शाम स्कूटर इण्डिया चौराहे के पास कानपुर रोड जाम कर दी। रंजीत का शव रखकर सड़क जाम कर रहे परिजनों का आरोप था कि नामजद रिपोर्ट दर्ज होने के बाद भी पुलिस ने अभी तक आरोपियों को पकडऩे की जरा सी भी कोशिश नहीं की।

फिलहाल रोड जाम की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने उनको आश्वासन दिया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आते ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। हालाकि पुलिस का कहना है कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी करने के साथ ही सर्विलांस की भी मदद ली जा रही है।

loading...
Loading...

You may also like

CM योगी ने किया अंतर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन का शुभारंभ, बोली ये बड़ी बात

लखनऊ। उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा