नरही में चालीस साल से बंद कमरे में मिला कारतूस से भरा बक्सा

- in क्राइम, लखनऊ
Cartridge box

लखनऊ। प्राथमिक विद्यालय नरही में चालीस साल से बंद कमरा खोले जाने पर हड़कंप मच गया। सफाई कर रहे मजदूरों को एक बक्से में बंदूक व कारतूस भरे मिले। जिन्हें देखते ही मजदूरों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। सूचना पर पहुंची हजरतगंज पुलिस ने छानबीन की तो डमी कारतूस होने की बात पता चली।

इंस्पेक्टर राधारमण ने बताया कि प्राथमिक विद्यालय नरही का कुछ दिन पहले अधिकारियों ने निरीक्षण किया था। इस दौरान कई सालों से बंद रिकार्ड रूम को खोल कर सफाई करने के निर्देश दिए थे। शनिवार को स्कूल प्रबंधन ने मजदूरों को सफाई के लिए लगाया था। इंस्पेक्टर ने बताया कि कमरे की सफाई के दौरान एक बक्सा मिला। जिसमें नकली बंदूक व कारतूस भरे हुए थे। उनके मुताबिक स्कूल प्रबंधन से सूचना मिलते ही वह मौके पर पहुंचे। इंस्पेक्टर ने बताया कि बक्से को कब्जे में लिया गया है।

 

पढे:- विवेक हत्याकांड: पुलिस रिमांड पर भेजे गए दोनों आरोपी कांस्टेबल

नए पॉलीटेक्निक पीपीपी मॉडल पर होंगे तैयार, हुआ निर्णय

लखनऊ। प्रदेश में बनने जा रहे 22 नए पॉलीटेक्निक पीपीपी मॉडल पर तैयार होंगे। शुक्रवार को राजकीय पॉलीटेक्निक लखनऊ(जीपीएल) में एक कार्यशाला के दौरान यह निर्णय हुआ। प्रदेश भर से आये संयुक्त निदेशक, प्रधानाचार्य और निर्णायक समिति अध्यक्ष ने यह फैसला लिया।

कार्यशाला की अध्यक्षता निदेशक प्राविधिक शिक्षा आरसी राजपूत ने की। बैठक में आए प्रदेश भर के प्रधानाचार्यों ने वर्तमान में स्थापित संस्थानों का पीपीपी मॉडल से कायाकल्प का विरोध जताया। हालांकि, दो-चार प्रधानाचार्य इसके पक्ष में भी दिखे।अंतिम निर्णय पर आरसी राजपूत ने कहा कि वर्तमान में राजकीय संस्थानों की हालत बहुत बेहतर है। मशीन से लेकर बिल्डिंग भी दुरुस्त हैं। इसके चलते जिन संस्थाओं में शिक्षकों की कमी है अथवा बिल्डिंग तैयार नहीं है, उन संस्थानों का पीपीपी मॉडल के तहत विकास किया जाएगा। जबकि, पूर्व में स्थापित संस्थाओं को इससे दूर रखा जाएगा।

बैठक में शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान (आईआरडीटी) निदेशक मनोज कुमार, संयुक्त निदेशक(मध्य जोन) के. राम समेत पश्चिम, बुंदेलखंड और पूर्वी जोन के निदेशक व प्रधानाचार्य मौजूद थे।

loading...
Loading...

You may also like

विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ। विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे