ब्रिटेन की असुरक्षित सीरिंजें भारतीय अस्पतालों में हो रहीं इस्तेमाल

सीरिंज
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने जिन सीरिंज को असुरक्षित घोषित कर दिया है वह भारत के अस्पतालों में पहुंच रही हैं। मिली जानकारी के अनुसार देश के कुछ अस्पतालों में इनका इस्तेमाल भी हो चुका है।

प्रतिबंधित ग्रीसबाय सीरिंज ड्राइवर्स भारत , दक्षिण अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों के अस्पतालों भेजे

खबरों में कहा गया है कि प्रतिबंधित ग्रीसबाय सीरिंज ड्राइवर्स भारत , दक्षिण अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों के अस्पतालों और चिकित्सा संगठनों में भेजे गए हैं।बतातें चलें कि वर्ष 2010 में एनएचएस से उपकरणों के चरणबद्ध तरीके से बाहर किया गया था। ऐसा सुरक्षा चेतावनियों के बाद किया गया था और ये चेतावनियां वर्ष 1995 में जारी की गई थीं।

ये भी पढ़ें :-थाइलैंड: गोताखोरों की मदद से सुरक्षित निकाले गये गुफा में फंसे 6 बच्चे 

आईसल ऑफ वाइट एनएचएस ट्रस्ट ने दिसंबर 2011 में  किया था जारी

मीडिया को जांच के दौरान एक नोटिस मिला जो आईसल ऑफ वाइट एनएचएस ट्रस्ट ने दिसंबर 2011 में जारी किया था। इसमें ग्रीसबाय एमएस 16 और एमएस 26 सिरींज ड्राइवरों को हटाने को कहा गया है। इसमें इन सिरींजों के बारे में कहा गया है कि इन्हें विकासशील देशों के धर्मार्थ संगठनों को दान कर दिया जाएगा।

Related posts:

गायत्री प्रजापति की जमानत याचिका ख़ारिज
सेक्स रैकेट चलाने वाली सोनू पंजाबन को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार
शपथग्रहण समारोह : सीएम रूपाणी समेत 19 विधायकों ने ली शपथ
गणतंत्र दिवस को लेकर भारत-नेपाल सीमा पर एलर्ट
U 19 world cup फाइनल : भारत की ऑस्ट्रेलिया पर शानदार जीत
दीवालिया होगी मोदी की कंपनी, फायरस्टार डायमंड इंक ने बैंकरप्सी कोर्ट में किया आवेदन
राज्यसभा चुनाव : यूपी में भाजपा की 7 सीटों पर उम्मीदवारों की लिस्ट जारी, इन्हें मिला टिकट
सीतामढ़ी में बस पुल से नीचे गिरी, 14 की मौत, 40 घायल
Blackbuck Poaching Case : आज की रात बलात्कारियों के साथ
‘उड़ान’ योजना के तहत कुंभ:2019 से पहले शुरू होगी लखनऊ से इलाहाबाद हवाई यात्रा
टी 20 : आत्मविश्वास से भरी टीम इण्डिया, इंग्लैंड की हर चुनौती से निपटने को तैयार
अब बिना हेलमेट नहीं मिलेगा पेट्रोल, पंप पर ही कटेगा चालान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *