ब्रिटेन की असुरक्षित सीरिंजें भारतीय अस्पतालों में हो रहीं इस्तेमाल

सीरिंजसीरिंज

नई दिल्ली। ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने जिन सीरिंज को असुरक्षित घोषित कर दिया है वह भारत के अस्पतालों में पहुंच रही हैं। मिली जानकारी के अनुसार देश के कुछ अस्पतालों में इनका इस्तेमाल भी हो चुका है।

प्रतिबंधित ग्रीसबाय सीरिंज ड्राइवर्स भारत , दक्षिण अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों के अस्पतालों भेजे

खबरों में कहा गया है कि प्रतिबंधित ग्रीसबाय सीरिंज ड्राइवर्स भारत , दक्षिण अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों के अस्पतालों और चिकित्सा संगठनों में भेजे गए हैं।बतातें चलें कि वर्ष 2010 में एनएचएस से उपकरणों के चरणबद्ध तरीके से बाहर किया गया था। ऐसा सुरक्षा चेतावनियों के बाद किया गया था और ये चेतावनियां वर्ष 1995 में जारी की गई थीं।

ये भी पढ़ें :-थाइलैंड: गोताखोरों की मदद से सुरक्षित निकाले गये गुफा में फंसे 6 बच्चे 

आईसल ऑफ वाइट एनएचएस ट्रस्ट ने दिसंबर 2011 में  किया था जारी

मीडिया को जांच के दौरान एक नोटिस मिला जो आईसल ऑफ वाइट एनएचएस ट्रस्ट ने दिसंबर 2011 में जारी किया था। इसमें ग्रीसबाय एमएस 16 और एमएस 26 सिरींज ड्राइवरों को हटाने को कहा गया है। इसमें इन सिरींजों के बारे में कहा गया है कि इन्हें विकासशील देशों के धर्मार्थ संगठनों को दान कर दिया जाएगा।

loading...
Loading...

You may also like

BJP महासचिव का बयान, राम मंदिर पर लाए अध्यादेश, यह चुनावी नहीं राष्ट्रीय अस्मिता का मुद्दा

नई दिल्ली। भाजपा संसदीय दल की बैठक में