Main Sliderउत्तर प्रदेशख़ास खबरराष्ट्रीयलखनऊ

सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में जवाब दाखिल करने को एक हफ्ते का दिया समय

लखनऊ। अयोध्या स्थित ढांचा ध्वंस करने के आपराधिक मामले में सीबीआई के गवाह पूरे हो जाने के बाद अब इस मामले के आरोपियों की गवाही दर्ज करके उनका पक्ष जाना गया। इसके बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में जवाब दाखिल करने को एक हफ्ते का समय दिया है।

अयोध्या स्थित विवादित ढांचा ध्वंस मामले में आज सीबीआई स्पेशल कोर्ट में अभियोजन पक्ष की गवाही पूरी हो गई। बता दें कि CBI ने विवादित ढांचा ध्वंस के आपराधिक मामले में अभियोजन पक्ष की गवाही पूरी करवाई। जिसके बाद सीबीआई विशेष कोर्ट ने आज सभी आरोपियों को तलब किया था। ढांचा ध्वंस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, चंपत राय, साध्वी ऋतंभरा समेत 32 आरोपी हैं ।

यूपी में धूल भरी आंधी के साथ बारिश की संभावना, मिल सकती है भीषण गर्मी से राहत

जिनके बयान कल दर्ज किए जाएंगे। अयोध्या स्थित ढांचा ध्वंस करने के आपराधिक मामले में सीबीआई के गवाह पूरे हो जाने के बाद अब इस मामले के आरोपियों की गवाही दर्ज करके उनका पक्ष जाना जाएगा।

विशेष न्यायाधीश एसके यादव ने अभियोजन की गवाही पूरी होने के बाद आरोपियों की गवाही सीआरपीसी की धारा- 313 के तहत आरोपियों के बयान दर्ज करने के लिए आज शुक्रवार यानी 29 मई की तारीख तय की है। बता दें कि ये अयोध्या प्रकरण मामला सीबीआई विशेष जज की कोर्ट में चल रहा है। आज इस मामले के गवाह जगतबहादुर ने मथुरा के जिला जज की कोर्ट से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अपनी गवाही दर्ज कराई, जिसके बाद गवाह से बचाव पक्ष के वकील के.के. मिश्र ने आर्ग्युमेंट किया। जिसके बाद सीबीआई के वकील ललित सिंह और आरके यादव ने कोर्ट को बताया कि इस मामले में बचाव पक्ष ने अभियोजन के तीन गवाह फरहत अब्बास, जगतबहादुर और मधुरिमा मिश्र को रिकॉल कराया था जिसमें दो लोगों जगतबहादुर और फरहत अब्बास से जिरह पूरी हो चुकी है जबकि मधुरिमा मिश्रा अधिक उम्र और बीमारी के चलते गवाही नहीं दे सकती हैं। जिसके बाद CBI द्वारा बताया गया कि अभियोजन की गवाही पूरी हो चुकी है और अब कोई गवाह शेष नहीं है। जिसके बाद स्पेशल कोर्ट ने आरोपियों का बयान दर्ज करने के लिए 28 मई की तारीख नियत करते हुए सभी आरोपियों को तलब किया है।

भाजपा के कई दिग्गज हैं आरोपी

इस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, पवन कुमार पांडेय, बृजभूषण शरण सिंह, सतीश प्रधान, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, कल्याण सिंह, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत नृत्यगोपाल दास, लल्लू सिंह, महंत धर्मदास, स्वामी साक्षी महाराज, आरएन श्रीवास्तव समेत 32 लोग इस मामले में आरोपी हैं. बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने कुल 49 आरोपी बनाए थे जिनमें से 32 जीवित हैं जबकि अन्य लोगों कि मृत्यु हो चुकी है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो चुका है और मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट का गठन भी किया जा चुका है लेकिन ढांचा ध्वंस के आपराधिक मामले की सुनवाई CBI की विशेष अदालत में अभी लंबित है।

loading...
Loading...