CBSE: बोर्ड ने 10वीं के छात्रों के लिए पासिंग क्राइटेरिया को किया पहले से आसान

- in शिक्षा
CBSE Board

नई दिल्ली। CBSE बोर्ड ने 10वीं के स्टूडेंट्स को बड़ी राहत दी है। CBSE चेयरमैन अनीता करवाल ने कहा कि स्टूडेंट्स को राहत देते हुए बोर्ड ने फैसला किया है कि 10वीं के छात्रों के लिए पासिंग क्राइटेरिया को आसान किया जाए। अब अगले वर्ष होने वाले परीक्षा में छात्रों को किसी विषय के थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों में मिलाकर कम से कम 33 % Marks लाने होंगे।

ये भी पढ़ें:- धारा 348 में संशोधन कर हिंदी को न्याय की भाषा बनायें मोदी 

अभी तक छात्रों को 10वीं की परीक्षा में पास होने के लिए थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों में अलग-अलग 33-33 % Marks लाने होते थे। ख़बरों के मुताबिक़ बोर्ड इस फैसले को अगले साल तक लागू कर देगा। इससे पहले, बोर्ड की चेयरमैन अनीता करवाल ने फरवरी 2018 में कहा था कि ये नियम सिर्फ साल 2018 के छात्रों के लिए है।

ये भी पढ़ें:- लखनऊ : पेपर लीक को लेकर BTC छात्रों ने राज्य शैक्षिक मुख्यालय का किया घेराव 

लेकिन उस वक्त ये नियम लागू नहीं किया गया। CBSE के देश भर में 18,000 से ज्यादा स्कूल। उम्मीद जताई जा रही है कि 2019 में CBSE की 10वीं की परीक्षा में 10 लाख से अधिक छात्र शामिल हो सकते हैं।

loading...
Loading...

You may also like

मध्यम वर्ग के छात्रों की पहुंच से बाहर होता जा रहा लखनऊ विश्वविद्यालय

लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में पढ़ना मध्यम वर्ग के