#BoycottChina : आतंकी मसूद अजहर,चीन के वीटो के खिलाफ लोग कर रहें विरोध

मसूद पर चीन के वीटो के खिलाफ लोग इस तरह निकाल रहे गुस्सामसूद पर चीन के वीटो के खिलाफ लोग इस तरह निकाल रहे गुस्सा

नई दिल्ली। चीन ने फिर बार अपना असली चेहरा दिखा दिया है। बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले की जिम्मेदारी लेने वाले आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने पर चीन ने चौथी बार अड़ंगा डाल दिया है। चीन के इस उठाये गए कदम के बाद लोग खुलकर उसका विरोध करने लगे हैं। साथ ही ट्विटर और फेसबुक पर लोग चीन के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। अजहर को मिले चीन के समर्थन की वजह से लोगों ने चीनी सामान का बहिष्कार करने की घोषणा की है। चीन के अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने पर वीटो लगाने के बाद #BoycottChina और #Boycottchineseproducts ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा।

ट्वीट करके यहां तक का कहना है कि इस बार आईपीएल न देखें क्योंकि कई चीनी कंपनियां ने इस बार प्रायोजक बनाए हैं। कुछ लोगों का कहना है कि चीनी ऐप को अनइंस्टॉल कर देना चाहिए। इन चीनी ऐप्स का नाम है- टिकटॉक, लाइक, हेलो, शेयरइट और पबजी।

ये भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी आज संसदीय क्षेत्र वाराणसी में 

#ChinaShieldsMasood भी ट्विटर पर काफी ट्रेंड कर रहा है। यह सही समय है जब संयुक्त राष्ट्र को अपनी वीटो पॉलिसी पर दोबारा सोचना चाहिए वरना आप देख सकते हैं कि क्या हो रहा है। ओमकार नाम के यूजर ने लिखा, ‘चीन आधिकारिक तौर पर एक आतंकी का समर्थन कर रहा है। बेशर्म देश। बेशर्म लोग। बेशर्म चीनी। एक यूजर ने लिखा, आतंकवाद के लिए पाकिस्तान और चीन दोनों बराबर के जिम्मेदार हैं।

ये भी पढ़ें : जब भारत होता है दुख मेँ तो राहुल गांधी क्यो सुख मेँ : भाजपा 

मैंने कभी चीन पर किसी आतंकी हमले के बारे में नहीं सुना। प्रदीप ढींगरा ने लिखा, ‘चीन ने मसूद अजहर को बचाने के लिए चौथी बार किया वीटो पावर का इस्तेमाल। पाकिस्तान को टमाटर तक न बेचने वाले देश भक्तों से अब निवेदन रहेगा कि हर चाइनीज प्रोडक्ट का बहिष्कार करें। हार्दिक भवसार ने लिखा, पप्पू अक्सर चीन राजनयिकों से छुप कर मिलता है। मसूद अजहर को जी बोलता है। फिर चीन यूएन में मसूद को बचा लेता है। क्या ये सब मात्र संयोग है ?

 

Loading...
loading...

You may also like

माध्यमिक विद्यालय शैक्षिक सत्र 2018-19 में यू-डायस प्रपत्र 28 मई तक भरें

🔊 Listen This News लखनऊ। जिला विद्यालय निरीक्षक/जिला