क्रिसमस के कार्यक्रम मनाये जाने का विरोध

क्रिसमसक्रिसमस

अलीगढ़। क्रिसमस आने में अब कुछ ही दिन बच गए हैं। हर कोई इस त्यौहार को लेकर बहुत ही उत्साहित दिखाई पड़ रहा है। लेकिन अलीगढ़ में क्रिसमस मनाने को लेकर नया विवाद खड़ा हो गया है। हिन्दू जागरण मंच द्वारा शहर के सभी स्कूलों और कॉलेज को पत्र जारी कर हिन्दू छात्र और छात्राओं पर इसाई धर्म के कार्यक्रमों को न थोपने की बात कही गयी है। साथ ही ये भी कहा गया है कि इसे चेतावनी या सुझाव जो भी समझना हो समझ लें बताया जा रहा है कि हिन्दू जागरण मंच महानगर हरिगढ़ की इस मामले में एक बैठक बुलवाई गयी थी। इस बैठक में क्रिसमस से जुड़े कार्यक्रमों को लेकर स्कूलों और कॉलेजों में पत्र जारी करने का फैसला लिया गया है। वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसे गलत बताया है।

क्रिसमस के विरोध को अखिलेश यादव ने बताया गलत

  • इस मामले में बोलते हुए अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने क्रिसमस के विरोध को गलत बताया है।
  • अखिलेश ने मंगलवार को लखनऊ में कहा कि ऐसे फरमान देश की संस्कृति और परम्परा को तोड़ने वाले हैं।
  • हमारे देश के लोग इतने अच्छे हैं, इसे जो भी त्योहार मिल जाए उसे अपना लेते हैं।
  • हमारा देश त्योहारों का देश है। खुशी मानाने वाला देश है।
  • एक दूसरे से प्यार करने वाला देश है। एक-दूसरे के त्योहार में उसके घर जाकर मिठाई खाने वाला देश है।
  • हमारे यहां तो क्रिसमस मानता है। देखिएगा हजरतगंज में कैसा क्रिसमस मानता है। हम भी मनाते हैं।
  • क्रिसमस नहीं मनेगा तो टीवी पर कैसे दिखेगा?”

बच्चों पर इसाई धर्म थोपना गलत

  • इस मामले में महानगर अध्यक्ष सोनू सविता ने क्रिसमस पर कार्यक्रमों को आयोजित करने को गलत बताया है।
  • उन्होंने कहा कि क्रिसमस के मौके पर स्कूलों और कॉलेजों में ईसाई धर्म से जुड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
  • सोनू ने बताया इन स्कूलों में हिंदू छात्र और छात्राएं बहुसंख्यक हैं।
  • ईसाई धर्म के छात्रों की संख्या बहुत कम होते हुए भी इस धर्म से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन करना गलत है।
  • बच्चों पर ईसाई धर्म को थोपना अनुचित है।
  • क्रिसमस के कार्यक्रमों का आयोजन बच्चों के दिमाग पर ईसाई धर्म को लादने जैसा है।
  • कार्यक्रम का हुआ आयोजन तो संस्थान हो मानसिकता दूषित करने वाला घोषित किया जायेगा।
  • प्रांतीय मंत्री संजू बजाज ने इस मामले में सीधे तौर पर चेतावनी दी है।
  • उन्होंने कहा कि अगर क्रिसमस का आयोजन किया गया तो उसे इसाई धर्म का प्रचारक एवं हिन्दू बच्चों कि मानसिकता दूषित करने वाला संस्थान माना जाएगा।
  • साथ ही हिन्दू जागरण मंच इस तरह के संस्थानों का विरोध भी करेगा।

आयोजन हिंदुत्व के खिलाफ

  • हिन्दू जागरण मंच की तरफ से कहा गया कि अगर हमारे बच्चों को हिन्दू संस्कृति से विमुख किया जाएगा तो उन्हें हिंदुत्व की समझ कैसे आएगी।
  • मासूम बच्चों को स्कूल-कॉलेज जाने-अनजाने में ईसाई धर्म कि ओर ले जा रहा हैं।
  • मंच ने इसे हिन्दू धर्म के खिलाफ है. इसे धर्मांतरण करना या उसे हिन्दू धर्म के खिलाफ माना जाएगा।

 

loading...
Loading...

You may also like

सोनिया के गढ़ पहुंचे पीएम, किया रेलकोच फैक्ट्री का निरीक्षण

रायबरेली। एक दिवसीय दौरे के लिए पीएम नरेंद्र