Main Sliderउत्तर प्रदेशख़ास खबरराजनीतिलखनऊ

प्रवासी श्रमिकों के नाम पर राजनीतिक स्टंट करने वाली कांग्रेस माफी मांगे : शर्मा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कांग्रेस पर प्रवासी श्रमिकों को बसों से भेजने को महज राजनीतिक स्टंट करार देते हुये कहा कि फर्जीबाड़े और मजदूरों की भावना से खिलवाड़ करने के लिये उसे देश की जनता से माफी मांगनी चाहिये।

डा शर्मा ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस एक तरफ श्रमिकों से सहानुभूति जताते हुये उनके लिये बसों का इंतजाम करने का नाटक कर रही है वहीं दूसरी ओर कोटा से यूपी के छात्रों को लाने के एवज में एक बार वसूली करने के बाद दोबारा बिल भिजवा रही है।

उन्होने कहा कि परिवहन निगम पहले ही कोटा से लाये गये छात्रों की बसों में डीजल के लिये करीब 19 लाख रूपयों का भुगतान कर चुकी है और अब राजस्थान सरकार ने फिर से 36 लाख 36 हजार रूपये का बिल भेज दिया है। कांग्रेस को अपने इस कृत्य के लिये देश के श्रमिकों से माफी मांगने की जरूरत है।

चीन से तोहफे में मिले Airbus A320 ने ली 98 पाकिस्तानियों की जान

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस श्रमिकों को भेजने के लिए फ्री में बसें देने का उतावली हाे रही है जबकि उसी के शासन वाली राजस्थान की सरकार कोटा में फंसे बच्चों को यूपी बॉर्डर तक छोड़ने का किराया वसूल रही हैं। उन्होने कहा कि कांग्रेस को अब इस सेवा की नौटंकी बंद कर देनी चाहिये। यह राजस्थान सरकार और कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व की दोहरी मानसिकता को दर्शाता है। ऐसा कृत्य पूरी तरह अक्षम्य है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस श्रमिकों को भेजने के लिए बसों को 12 घंटे के लिए कहकर लाई थी। ड्राइवरों को खाना तक नहीं दिया गया। क्या हम ऐसी बसों में श्रमिकों को भेजते, जिसमें ड्राइवरों को खाना तक नसीब नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि राजस्थान के कोटा से बच्चों को लाने के लिए प्रदेश सरकार ने 560 बसें भेजी थीं। हमारी बसों में डीजल की कमी हुई तो राजस्थान में डीजल भराया गया। इसका भुगतान भी प्रदेश सरकार ने राजस्थान को कर दिया था।

डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा- एंट्रेंस, सेमेस्टर और वार्षिक परीक्षाएं ऑनलाइन कराने पर करेंगे विचार

उन्होने कहा कि कांग्रेस के लोग अनर्गल प्रचार कर गलत साक्ष्य दिखा रहे हैं। मिथ्या वर्णन कर गुमराह कर रहे हैं। आज भी राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र में हजारों श्रमिक पैदल घूम रहे हैं। राजस्थान सरकार में कोई मानवीय संवेदना नहीं है। कांग्रेस को अपनी गिरेबान में झांक कर देखना चाहिये।

इस मामले में सूबे के परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने कहा कि राजस्थान सरकार हिंदुस्तान के भविष्य यानी छात्रों से पैसा वसूल रही है। प्रदेश सरकार ने बच्चों को लाने के लिए यहां से बसें भेजी थीं, कुछ बसें कम पड़ गईं तो राजस्थान सरकार से 94 बसें ली थीं। इसका भुगतान प्रदेश सरकार ने कर दिया है। उन्होंने कहा कि यूपी सरकार 27 हजार बसों की बदौलत श्रमिकों काे उनके घरों तक पहुंचा रही है।

loading...
Loading...