नवजोत सिंह सिद्धू की सफाई, पाक आर्मी चीफ ने गले लगकर कही थी ये बात

नवजोत सिंह सिद्धूनवजोत सिंह सिद्धू
Loading...

नई दिल्ली। इमरान खान के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथग्रहण समारोह में पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पाक आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा के गले लगने को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। सोशल मीडिया और विरोधियों द्वारा सिद्धू के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिल रह है। वहीं इस मामले में सिद्धू की तरफ से सफाई दी गयी है शनिवार को उन्होंने स्थानीय मीडिया से कहा कि वह एक राजनेता नहीं, एक दोस्त की हैसियत से पाकिस्तान आये हैं। उन्होंने कहा कि ‘जनरल साहब ने मुझे गले लगाया और कहा कि वह शांति चाहते हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू ने इमरान खान को ‘खान साहब’ कहकर किया संबोधित

पूर्व क्रिकेटर और पीटीआई नेता इमरान खान ने शनिवार को पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लिया। वहीं पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू न्योते पर इस समारोह में शामिल होने पहुंचे। इस दौरान सिद्धू ने इमरान खान को दोस्ताना अंदाज में ‘खान साहब’ कहकर संबोधित किया। इमरान की तारीफ में उन्होंने कहा कि खान साहब आप एक कदम चलो तो मैं दो कदम चलूंगा। यह बयान काफी महत्वपूर्ण है।’

पढ़ें:- इमरान खान के शपथग्रहण में बाजवा से गले मिले सिद्धू, भाजपा बोली- कांग्रेस मांगे माफ़ी 

कांग्रेस नेता ने कहा कि अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपनी सरकार से बातचीत कर उन्हें इसके लिए प्रेरित करें। इससे दोनों देशों के रिश्तों को लेकर एक बड़ी उम्मीद बंधी है। सिद्धू ने भारत और पाकिस्तान के बीच शांति की उम्मीद जताई।

दोनों पंजाब सीमा खोल दें तो होगी तेज तरक्की

सिद्दू ने अपना सुझाव देते हुए कहा कि अगर दोनों पंजाब अगर सीमा खोल दें । तो पूरे क्षेत्र में तेजी से तरक्की हो सकती है। उन्होंने कहा कि अगर इरादा नेक हो तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आखिर कब तक हम लाल समंदर में डूबेंगे, अब वक्त आ गया है कि हम इसे नीला बनाएं यानी शांति कायम करें।’ इस दौरान कई बार ऐसा मौका आया जब सिद्धू अपने चिर-परिचित अंदाज में लोगों को हंसाते भी नजर आए।

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा कि वह हिंदुस्तान से मोहब्बत का एक पैगाम लाया था। जितनी मोहब्बत वह लेकर आये थे, उससे 100 गुना ज्यादा मोहब्बत वह वापस लेकर जा रहे हैं। जो वापस आया है, वो सूद समेत आया है।’ उन्होंने बताया कि आज सुबह जनरल बाजवा मेरे पास आए और कहा कि हम गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर करतारपुर मार्ग खोलने पर विचार कर रहे हैं।

Loading...
loading...

You may also like

Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण से भारत में पड़ेगा यह प्रभाव

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। 2019