कांग्रेस ने हिमाचल में सात नेताओं को किया निलंबित

शिमला।  कांग्रेस पार्टी ने हिमाचल में अनुशासन नियमों का उल्लंघन करने के मामले में दो पूर्व मंत्रियों समेत सात नेताओं को पार्टी से निलंबित कर दिया। इन पर पार्टी के उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव लड़ने का आरोप है।

यह जानकारी अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव और पार्टी के राज्य प्रभारी सुशील कुमार शिंदे ने दी है।  शिंदे ने कहा कि पार्टी के सात बागी नेताओं को कम से कम छह साल के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने इस नेताओं को एआईसीसी के उम्मीदवारों के खिलाफ अपना नामांकन वापस लेने के लिए मनाने की काफी कोशिश की। हालांकि उनमें से सात नहीं माने और उन्होंने पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला किया जो कि पार्टी के अनुशासन नियमों का उल्लंघन है।

श्री शिंदे ने बताया  कि कांगड़ा जिले के शाहपुर से चुनाव लड़ रहे पूर्व मंत्री विजय सिंह मनकोटिया और शिमला जिले के रामपुर आरक्षित सीट से चुनाव लड़ रहे सिंघई राम,दोनों को निलंबित कर दिया गया है और पार्टी ने उन्हें नोटिस जारी किया है। कांग्रेस ने शाहपुर से कवल सिंह पठानिया और रामपुर से मौजूदा विधायक नंद लाल को टिकट दिया है।  कांग्रेस ने जिन बागी नेताओं की छह साल के लिए पार्टी से निकाला हैं उनमें शिमला शहरी से हरीश जनारथा, नालागढ़ से हरदीप बाब, द्रंग से पूर्ण चंद ठाकुर, रामपुर से सिंघी राम, पालमपुर से बैनी प्रसाद, शाहपुर से विजय सिंह मनकोटिया और लाहौल स्पीति से स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे राजेंदर कारपा शामिल हैं।  हिमाचल प्रदेश में नौ नवंबर को वोट डाले जाएंगे जबकि 18 दिसंबर को मतगणना होगी।

loading...
Loading...

You may also like

विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ। विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे