CSIR-CIMAP में किसान मेला 31 जनवरी को, मेंथा से इस बार आय होगी दोगुनी

Loading...

लखनऊ। CSIR – Central Institute of Medicinal and Aromatic Plants  (CSIR-CIMAP) में 31 जनवरी को किसान मेला आयोजित किया जाएगा। मेले का शुभारम्भ केन्द्रीय राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय गिरिराज सिंह करेंगे। विशिष्ट अतिथि प्रदेश के कृषिमंत्री सूर्य प्रताप सिंह शाही होंगे। इस अवसर पर सचिव,डीएसआईआर एवं महानिदेशक, CSIR  डॉ. गिरीश साहनी मौजूद रहेंगे।

ये भी पढ़ें:-शोध और शिक्षा के क्षेत्र में सामूहिक सहयोग करेंगे CSIR-CIMAP व अवध विश्वविद्यालय

CSIR-CIMAP किसान मेले में बिक्री करेगा मेन्था की 700 क्विन्टल जड़

  • यह जानकारी CSIR-CIMAP  के निदेशक प्रो. अनिल कुमार त्रिपाठी ने रविवार को पत्रकार वार्ता में दी।
  • उन्होंने बताया कि इस बार किसान मेले में मेन्था की 700 क्विन्टल जड़ बिक्री करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • 500 क्विंटल CIMAP लखनऊ व 200 क्विंटल CIMAP पंतनगर केन्द्र में बिक्री की जाएगी।
  • पंतनगर केन्द्र में आगामी आठ फरवरी को किसान मेला आयोजित किया जाएगा।
  • प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि मेले में प्रदेश के अलावा 20 अन्य राज्यों के करीब 7000 किसानों के आने की उम्मीद है।

मेंथा किसानों को इस साल होगा दुगुना लाभ

  • प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि इस बार मेंथा किसानों को फसल से दुगुना लाभ होगा ।
  • इसी वजह उन्होंने बताया कि जर्मनी की बीएसएफ कम्पनी जो कि  सिंथेटिक मेंथा बनाती है।
  • उसके प्लांट में तकनीकी दिक्कत की वजह से उत्पादन ठप है।
  • अभी करीब तीन चार माह में शुरू होने की उम्मीद कम है।
  • ऐसे में नेचुलर मेंथा उत्पादन करने वाले किसानों को इस बार मेंथा की फसल से दुगुना लाभ होने का अनुमान है।

इंडस्ट्री किसानों के हित में करे सस्ती तकनीक विकसित

  • इस अवसर पर प्रो. त्रिपाठी ने इंडस्ट्री से किसानों के हित में सस्ती तकनीक विकसित करने की मांग की।
  • ताकि किसानों को कम खर्च में अधिक लाभ मिल सके।
  • प्रो. त्रिपाठी ने कहा कि मेंथा की टंकी की गुणवत्ता अच्छी होनी चाहिए।
  • टंकी की गुणवत्ता खराब होने की वजह से करीब 15 से 20 प्रतिशत कम तेल का उत्पादन होता है।
  • इसको कम करके किसानों की आय में इजाफा किया जा सकता है।

मेंथा टंकी की खरीद केंद्र दे सब्सिडी

  • प्रो. त्रिपाठी ने केंद्र सरकार से मेंथा टंकी की खरीददारी में सब्सिडी दिए जाने की मांग की।
  • ताकि किसान उच्च गुणवत्ता वाली टंकी खरीद अपनी आय बढ़ा सकें।
  • एफएफडीसी के साथ मिल सीमैप कम पानी में मेंथा उगाने की तकनीक अर्सी मिंट टेक्नोलाजी विकसित कर रहा है।

ये भी पढ़ें :-

जेरेनियम का उत्पादन कर किसान कमाएं 1.5 से दो लाख रुपये

  • किसान मेले के अध्यक्ष डॉ. आलोक कालरा ने बताया कि जेरेनियम का उत्पादन कर किसान 1.5 से दो लाख रुपये प्रति हेक्टेयर कमा सकता है।
  • डॉ. कालरा ने बताया कि जेरेनियम जनवरी माह में रोपित किया जाता है।
  • इसके पौधे को बचाना अभी तक सबसे बड़ी चुनौती था।
  • इस कारण अभी तक 30 से 35 रुपये में बिक्री की जाती थी।
  • संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. सौदान सिंह ने नई तकनीक विकसित की है।
  • इस कारण अब इसका पौधा अब एक रुपये में बिक्री के लिए किसान मेले में  ट्रायल के तौर पर उपलब्ध होगा।

प्रयोग सफल रहा तो होगा 150 टन उत्पादन

  • फिलहाल अभी 10 से 15 किसानों को दिये जाने की योजना है।
  • डॉ. कालरा ने बताया कि भारत में अभी तक जेरेनियम 20 से 25 टन उत्पाद होता है।
  • यदि यह प्रयोग सफल रहा तो 150 टन उत्पादन किया जा सकेगा।
  • सीमैप की सोलर पॉवर से डिस्टलेशन यूनिट तैयार करने जा रहा है।
  • ताकि एनर्जी का कम उपयोग करके अधिक आय किसान पा सकें।

CIMAP किसानों को मेंथा की जड़ पर देगा सब्सिडी

  • जिदंल ड्रग्स ने सीमैप को 10 लाख रुपये दिए हैं।
  • इसके अलावा मार्स रिग्ली ने पांच हजार डालर की मदद दी है।
  • इस धनराशि का उपयोग सीमैप किसानों को सब्सिडी देने में करेगा।
  • अभी तक किसनों को मेंथा की जड़ 100 रुपये किलो देता था।
  • लेकिन अब किसानों को सब्सिडी देते हुए 80 रुपये प्रति किलो जड़  देगा।

वैज्ञानिकों एवं दो प्रगतिशील किसानों पुरस्कृत करेगा CIMAP

  • अल्ट्रा इंटरनेशनल के सहयोग से अरोमा मिशन के तहत टीम पुरस्कार वैज्ञानिकों एवं दो प्रगतिशील किसानों को एक लाख रुपये देकर पुरस्कृत करेगा।
  • प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि यह योजना प्रगतिशील किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू कर रही है।
  • ताकि किसानों का रोल मॉडल बन सकें।

CIMAP किसानों का बनाएगा डेटा बैंक

  • मेला संयोजक डॉ. संजय कुमार ने बताया कि सीमैप किसानों को डेटा बैंक बनाने जा रहा है।
  • इसके पीछे सीमैप का मकसद किसानों को कोई भी जानकारी आसानी से उपलब्ध कराना है।
  • ताकि किसानों को कोई भी समस्या हो तो सीमैप के वैज्ञानिकों से आसानी से सलाह ले सकें।
  • इसके अलावा सीमैप किसानों को समय-समय पर  अपना भी सुझाव किसानों को मोबाइल पर उपलब्ध कराता रहेगा।
Loading...
loading...

You may also like

ओम बिड़ला के लिए कवि बने मोदी के ये मंत्री, राहुल-सोनिया ने भी लगाए ठहाके

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। संसद