बार्डर पर सुरक्षा एजेंसियों एवं कस्टम की हुई समन्वय बैठक

बार्डर
Please Share This News To Other Peoples....

सिद्धार्थनगर। भारत-नेपाल बार्डर के ककरहवा बार्डर पर कस्टम कार्यालय पर कस्टम, एसएसबी,पुलिस एव वन विभाग की एक समन्वय बैठक सम्पन्न हुई।

बार्डर पर हुई बैठक

बैठक में सीमा पर स्थापित सभी सुरक्षा एजेंसियों ने एक दूसरे के साथ सामंजस्य बनाकर काम करने का निर्णय लिया गया। जिसमें सभी विभाग को अपने अधिकारों का प्रयोग करने तथा दूसरे के अधिकारों में खलन न डालने पर सहमति बनी तथा सभी ने पब्लिक हित व देश हित को लेकर अपनी-अपनी बात रखी।

ये भी पढ़ें : डायल 100 के दीवान पर हुआ फावड़े से हमला 

ककरहवा बार्डर पर स्थित कस्टम सीमा चौकी पर तैनात इंस्पेक्टर विमल यादव ने कहा कि किसी भी सामानों को सीमा पार ले जाने और भारत में लाने के निर्धारण करना कस्टम का काम न कि अन्य एजेंसियां निर्धारण करें कि कितनी मात्रा में ले जाना है कितनी मात्रा में नही ले जाना है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि अनएथराइज्ड रूड से कोई यदि समान लाता है या ले जाता है तो वह गलत है। उसको रोकने का काम एसएसबी का है।

ककरहवा बार्डर पर जँहा कस्टम चौकी है वहाँ सामानों को चेक करना एसएसबी का काम है और लाने और ले जाने का निर्धारण का काम कस्टम का है। इसके अलावा आम नागरिकों की समस्याओं की बात को ध्यान में रखते हुए लोगो ने नागरिको के सहयोग की बात की।

इस दौरान चौकी प्रभारी रामेश्वर यादव, एसएसबी के एसआई मोतीराम, मुख्य आरक्षी अनिल गिरी, वन दरोगा अनुज कुमार उपाध्याय मौजूद रहे।

Related posts:

लखनऊ: दो साल बाद भी नहीं शुरू हुआ विभाग, सरकार का दिया बजट नहीं पहुंचा KGMU
कांग्रेस वफादर 43 विधायकों को देगी तोहफा, मुश्किल वक्त में नहीं छोड़ा 'हाथ' का साथ
Mumbai : कमला मिल्स कंपाउंड में लगी भीषण आग
वृक्षारोपण कर दिया स्वच्छता का संदेश
एसएसबी के ककरहवा चेक़ पोस्ट से गुजरना है तो मोटरसाइकिल खींचकर पैदल चलना होगा 50 मीटर
मेनका गांधी के बिगड़े बोल, कोटेदार से कहा-तुम्हे शर्म आनी चाहिए, हरामजादे की तरह....
राजनीति के रणनीतिकार की वापसी से गरमाई सियासत, मोदी को पीएम बनाने में था योगदान
लखनऊ: पारा में हुई दुर्घटना में घायलों और मृतकों को मुआवजे का ऐलान
दिल्ली में दिव्यांग बच्ची से रेप कर बनाया वीडियो, इंसानियत शर्मसार
सुप्रीमकोर्ट की वेबसाइट हैक, ब्राजील हैकर्स का हाथ होने की आशंका
पदों बंटवारे में कांग्रेस और जेडीएस के सामने आयी सबसे बड़ी मुश्किल, जा सकती है सत्ता
बिहार महागठबंधन: कांग्रेस 8 सीटें भी लेने को तैयार, बस राजद को माननी पड़ेगीं ये शर्तें