चक्रवाती तूफान वायु : आज रावल तट से टकराएगा, NDRF की 52 टीमें तैनात

चक्रवाती तूफान वायु
Loading...

नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान वायु विकराल रूप लेकर 145 से 155 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुरुवार को गुजरात के तट से टकराने की आशंका है। इससे हवा की गति 170 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है। गृह मंत्री ने हालात से निपटने के लिए NDRF की 52 टीमों को तैनात करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि सेना के तीनों अंगों और कोस्ट गार्ड को भी अलर्ट पर रखा गया है।

गृहसचिव राजीव गौबा ने तैयारियों की समीक्षा के दौरान गुजरात और दीव सरकार ने बुधवार शाम तक चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का दावा किया। गृह सचिव गौबा की अध्यक्षता में हुई राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में गृह, रक्षा, दूरसंचार, ऊर्जा व स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ-साथ मौसम विभाग, एनडीएमए, इंटीग्रेटेड डिफेंस स्टाफ और राष्ट्रीय आपदा बचाव बल (एनडीआरएफ) के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। वहीं गुजरात के मुख्य सचिव और दीव के प्रशासक के सलाहकार ने वीडियोकांफ्रेंसिंग के जरिये इसमें हिस्सा लिया।आनी

मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने बताया कि ‘वायु’ अब भीषण से अतिभीषण चक्रवात में तब्दील हो गया है और इससे गुजरात से 10 जिलों के प्रभावित होने की आशंका है। इसको देखते हुए राहत और बचाव कार्यो में संसाधन बढ़ाने की जरूरत है। गुजरात ने बताया कि तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही रात 12 बजे से तूफान से प्रभावित होने की आशंका वाले इलाकों में पुलिस पेट्रोलिंग शुरू हो जाएगी।

राजीव गौबा ने संबंधित मंत्रालयों को राहत शिविरों में संचार उपकरणों, पेयजल, जरूरी दवाओं और खाने-पीने के सामान की पर्याप्त व्यवस्था करने का निर्देश दिया ताकि किसी को कोई दिक्कत नहीं हो। एनडीआरएफ की 52 टीमें नाव, पेड़ काटने की आरी और संचार उपकरणों के साथ मौजूद है। इसके साथ ही सेना, वायुसेना, नौ सेना और कोस्ट गार्ड को भी सतर्क रखा गया है।

यातायात बाधित

पोरबंदर समेत प्रभावित इलाकों के हवाई अड्डों से उड़ानों को निलंबित कर दिया गया है। चार सौ उड़ानों पर इसका असर पड़ा है। पश्चिम रेलवे ने गुजरात के तटवर्ती इलाकों से गुजरने वाली 15 ट्रेनों को रद कर दिया है, उनका समय बदल दिया है। प्रभावित होने वाले क्षेत्रों में पोर्ट पर भी कामकाज ठप है।

सोमनाथ मंदिर क्षेत्र में आंधी

चक्रवात के टकराने से पहले ही प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर क्षेत्र में लोगों का सामना धूलभरी आंधी से हुआ। इससे दिन में ही अंधेरा छा गया और समुद्र में ऊंची लहरे भी उठीं।

अहमदाबाद से उड़ाने रद्द

एहतियात के तौर पर अहमदाबाद के सरदार वल्लभ भाई पटेल इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गुरवार को सौराष्ट्र के पोरबंदर, दीव, कांडला, मुंद़़डा, भावनगर की उड़ानें निरस्त कर दी गई हैं। सभी पर्यटकों को गुजरात के तटीय इलाके खाली करने का निर्देश दिया गया है। शिक्षा संस्थानों में भी अवकाश घोषित कर दिया गया है। गुजरात के सीएम विजय रपानी ने प्रभावित क्षेत्रों से जनता को निकालने में मदद की अपील की। उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बताया कि 10 जिलों के 400 गांव के 2.91 लाख लोगों को शिफ्ट किया जाएगा। इन पर ‘वायु’ का सबसे ज्यादा असर होने के आसार हैं।

दो विशेष ट्रेनें चलाई

पर्यटकों को निकालने के लिए सौराष्ट्र के ओखा से राजकोट व अहमदाबाद के लिए दो विशेष ट्रेनें चलाई गई। जबकि पश्चिम रेलवे ने वेरावल, ओखा, पोरबंदर, भावनगर, भुज व गांधीधाम स्टेशनों के लिए बुधवार शाम से शुक्रवार सुबह तक कुछ ट्रेनों को निरस्त तो कुछ को कुछ दूरी तक रद्द किया है।

महाराष्ट्र के कई क्षेत्रों में असर

महाराष्ट्र के मुंबई समेत कई इलाकों में चक्रवात ‘वायु’ का असर पड़ेगा। मुंबई में तो बारिश भी होने लगी है। वहीं, सिंधुदुर्ग जिले के मलवान तहसील के देवबाग गांव के पास समुद्र में ऊंचा ज्वार उठ रहा है। समुद्र का पानी गांव में भर गया है।

पीएम मोदी और राहुल की अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से चक्रवात के बारे में स्थानीय एजेंसियों द्वारा मुहैया कराई जा रही सूचनाओं का पालन करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि वह लोगों की सुरक्षा और सेहत के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से चक्रवात प्रभावित इलाकों में लोगों की मदद के लिए तैयार रहने को कहा है। उन्होंने लोगों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना भी की है।

Loading...
loading...

You may also like

कोटा के सांसद ओम बिड़ला बने लोकसभा स्पीकर, सभी दलों ने किया समर्थन

Loading... 🔊 Listen This News