दलित महासभा के इस बड़े फैसले सपा-बसपा गठबंधन को बड़ा झटका, चुनावों पर पड़ेगा असर

दलित महासभा
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। दलित महासभा ने एक ऐसी घोषणा की है, जिसका खामियाजा बसपा-सपा गठबंधन तगड़ा झटका लग सकता है। दलित महासभा की तरफ से 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती के मौके पर एक समारोह में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को ‘दलित मित्र’ से सम्मानित करने का फैसला लिया है। यह फैसला अंबेडकर महासभा के अध्यक्ष लालजी प्रसाद निर्मल की तरफ से लिया गया है। जिसको लेकर नाराजगी भी देखने को मिल रही है। इस मामले में महासभा के दो वरिष्ठ सदस्य हरीश चंद्र और एसआर दारापुरी ने लालजी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

पढ़ें:- मोदी सरकार के खिलाफ़ बगावती सुर तेज, अब एक और दलित सांसद ने खोला मोर्चा

दलित महासभा के फैसले से गठबंधन और लोकसभा चुनाव होगा प्रभावित

जानकारों की माने तो दलित महासभा के इस फैसले से सपा-बसपा गठबंधन को बड़ा झटका लग सकता है। दोनों पार्टियों की मेहनत मशक्कत के बाद अब जाके दलितों का वोट बैंक वापस लौटा है। वहीं सीएम योगी को दलित मित्र से सम्मानित किया जाना दलितों में एक बड़ा सन्देश ले जाएगा। यूपी व अन्य राज्यों में भारत बंद आन्दोलन के दौरान हुई हिंसा को लेकर दलितों का बीजेपी के खिलाफ आक्रोश है जो इस सम्मान के बाद ख़त्म हो जायेगा।

वहीं इस फैसले से दलितों का वोट काटने की पूरी संभावना है। बीजेपी जानते है कि अगर उसे सत्ता में वापसी करनी है तो उसे किसी भी कीमत पर दलित वोट को हासिल करना ही होगा। पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत में दलित वोटों का अहम योगदान था।

पढ़ें;- भारत बंद : मेरठ दंगे में मुख्य आरोपी बसपा कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या 

लालजी प्रसाद निर्मल के फैसले से नाराज अन्य सदस्य नाराज

दलित महासभा 14 अप्रैल को सीएम योगी को सम्मानित किया जाने के फैसले के खिलाफ आवाज उठने लगी। इस फैसले से महासभा के दो वरिष्ठ सदस्य हरीश चंद्र और एसआर दारापुरी बेहद नाराज हैं। उन्होंने निर्मल के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए एनुअल जनरल मीटिंग भी बुलाई है. हरीश चंद्र और दारापुरी का कहना है कि निर्मल ने अपनी सीमाओं को लांघा है।

इस मामले में बोलते हुए हरीश चंद्र ने कहा है कि महासभा का गठन अंबेडकर के विचार लोगों तक पहुंचाने के लिए किया गया था न कि किसी के निजी फायदे के लिए। उन्होंने कहा कि निर्मल की यूपी विधान परिषद में बीजेपी की टिकट पर नजर है।

दूसरी तरफ अध्यक्ष लालजी प्रसाद निर्मल ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि सीएम योगी को ‘दलित मित्र’ अवॉर्ड देने में कुछ भी गलत नहीं है, क्योंकि वो उत्तर प्रदेश में रहने वाले सभी लोगों के मित्र हैं। वो दलितों के भी मित्र हैं।

पढ़ें:- बीएसपी प्रमुख बोली- BJP ने शासनादेश को लेकर दी आधी जानकारी 

विपक्ष ने सरकार पर लगाया दलित विरोधी होने का आरोप

बता दें कि 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान यूपी में भी कई जगहों पर हिंसा हुई, जिसमें कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। विपक्ष लगातार सीएम योगी आदित्यनाथ पर दलित विरोधी होने का आरोप लगाता आ रहा है। वहीं इन आरोपों के बीच अपनी छवि सुधारने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने बाबा साहेब भीम राम अंबेडकर की तस्वीर हर सरकारी दफ्तर में लगाने का आदेश दिया था।

Related posts:

यूपी के पूर्व राज्यपाल B. L. Joshi का निधन
शर्मनाक बयान : खट्टर के इस पुलिस अफसर ने कहा बलात्कार तो समाज का हिस्सा है...
सिद्धार्थनगर : ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री ने प्रधानमंत्री सड़क का किया शिलान्यास
ब्रेकिंग : बजट पेश करने के बाद वित्त मंत्री जेटली कर रहे प्रेस कांफ्रेंस....
जीवन में सबसे ज्यादा लक्ष्य की स्पष्टता जरूरी
श्रीनगर : करन नगर मुठभेड़ में सेना ने 2 आतंकियों को किया ढेर, एनकाउंटर जारी
जैन मलिक के फैंस के लिए खुशखबरी, जल्द कर रहे हैं बॉलीवुड में एंट्री
सपा-बसपा को अलग करने चाहती थी BJP, हमारे रिश्ते को तोड़ नहीं पायी : मायावती
मोदी राज में स्मगलिंग, दक्षिण एशिया का सबसे महंगा पेट्रोल-डीजल बेंचने वाला देश बना भारत
राहुल गांधी ने कराई सुलह, अब बजट की तैयारी में जुटे सीएम
मुख्यमंत्री आरो पेयजल योजना को मिली मंजूरी
शादी से पहले दीपिका पादुकोण ने ब्रेस्ट सर्जरी को लेकर किया खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *