Google की गलती से फोन में सेव हुआ UIDAI का नंबर, तुरंत करें ये काम

GoogleGoogle

नई दिल्ली। लोगों के पर्सनल मोबाइल फोन के कांटेक्ट लिस्ट में अचनाक आधार कार्ड यानी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) का टोल फ्री नंबर सेव हो गया हया है। टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर का अपने-आप आपकी जानकारी के बगैर जुड़ने का मामला हैरान करने वाला है। यह मामला Google की एक गलती से हुआ है। जिसे Google ने भी स्वीकार किया है। कई लोग इसे पर्सनल डिटेल्स की हैकिंग की आशंका व्यक्त कर रहे हैं। ऐसे में महाराष्ट्र पुलिस के साइबर सुरक्षा सेल ने शुक्रवार देर शाम एक एडवायजरी जारी की है कि अगर आप UIDAI के नाम से आधार कार्ड का हेल्पलाइन नंबर मोबाइल फोन में अपने आप जुड़ जाए तो इसे फ़ौरन डिलीट किया जाए।

Google ने मानी अपनी गलती

मोबाइल फोन्स में यूजर्स की मंजूरी के बिना आधार हेल्पलाइन नंबर पहले से सेव होने को लेकर लोगों के बीच गुस्सा और हैरान का माहौल देखा गया है। वहीं Google ने शुक्रवार रात एंड्रायड फोन्स के ‘सेटअप विजार्ड’ में पुराना यूआईडीएआई हेल्पलाइन नंबर और 112 हेल्पलाइन नंबर ‘गलती से’ लोड हो जाने पर माफी मांगी है। गूगल ने कहा है कि नंबरों को फोन से डिलीट किया जा सकता है। साथ ही बताया कि डिलीट कर देने से इस दिक्कत को खत्म किया जा सकता है। लेकिन बताया जा रहा है कि UIDAI ने कहा कि एंड्राएड फोन के कॉन्‍टेक्‍ट लिस्‍ट में पहले से उपलब्‍ध नंबर 1800-300-1947 नंबर गलत है।

ये भी पढ़ें : मिस्टर 56 इंच के सूट-बूट वाले मेहुल चोकसी को नवंबर 2017 में ही मिली क्लीन चिट: राहुल 

टेलिकॉम कंपनियों की कोई भूमिका नहीं

सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) ने एक बयान में कहा, ‘कई सारे मोबाइल हैंडसेट्स के फोनबुक में कुछ अज्ञात नंबर के सेव हो जाने में दूरसंचार सेवा प्रदाताओं की कोई भूमिका नहीं है।’ हालांकि, टेलीकॉम कंपनियों ने इस मुद्दे पर किसी प्रकार का बयान देने से इनकार कर दिया और कहा कि उनका भी यही कहना है, जो सीओएआई ने कहा है। UIDAI ने ये भी बताया है कि ये कंपनियां उसका पुराना टोल फ्री नंबर 1800-300-1947 चला रही हैं जो वैध नहीं है।

Loading...
loading...

You may also like

कलबुर्गी) राहुल का मोदी पर हमला : नरेंद्र मोदी समूचे देश को चौकीदार बना रहे हैं

🔊 Listen This News कलबुर्गी : कलबुर्गी उत्तर