देवरिया: अतीक अहमद के बैरक से मिले पैन ड्राइव और सिमकार्ड, सवालों के घेरे में जेल प्रशासन

देवरियादेवरिया

देवरिया। यूपी के बागपत में माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद अब यूपी पुलिस जेल में सुरक्षा को लेकर कोई भी समझौते के मूड में नहीं है। इसी क्रम में देवरिया जिले की जेल में डीएम और पुलिस अधीक्षक ने छापेमारी की इस दौरान सपा के पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के बैरक से दो सिमकार्ड और चार पैन ड्राइव बरामद किये गए हैं। साथ ही दूसरे बैरक में एक मोबाइल फोन, 2 सिम कार्ड और हैंडमेड चाकू बरामद हुआ है. जोकि कई तरह के सवाल खड़े करता है।

बता दें कि हाल ही में मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या करा दी गयी थी। वहीं आरोपी के पास पिस्टल होने को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। जिसको लेकर जेल प्रशासन भी सवाल के कठघरे में है।

पढ़ें:- डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या, पत्नी ने लगाया था साजिश रचे जाने का आरोप 

देवरिया जेल में भारी पुलिस बल के साथ छापेमारी

जानकारी के मुताबिक देवरिया के डीएम और एसपी ने तीन सौ सिपाहियों, दर्जनों दरोगाओं के साथ जिला जेल में छापेमारी करेने पहुंचे थे।इस मामले में एसपी ने बताया कि 300 सिपाहियों के साथ छापेमारी की गई है। अतीक अहमद की बैरक से दो सिम, चार पेनड्राइव बरामद की गई हैं। जिनकी जांच की जा रही है।

वहीं इस मामले में डीएम का कहना है कि काफी दिनों से जेल में मोबाइल होने की सूचना मिल रही थी। जिसके बाद छापेमारी की गई है। इस दौरान जेल से एक मोबाइल मिला है। दो अन्य सिम कार्ड और हैंडमेड चाकू भी बरामद किया गया है।

गौरतलब है कि अतीक अहमद को चुनाव के वक्त नैनी जेल से देवरिया की जिला जेल में शिफ्ट किया गया था। इससे पहले वो जमानत पर बाहर था। लेकिन बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

पढ़ें:- अतीक अहमद के भाई पर इनाम घोषित, बसपा MLA की हत्या समेत दर्जनों मामले हैं दर्ज 

मुन्ना बजरंगी की जेल में हुई हत्या

गौरतलब है कि इसी महीने यूपी के बागपत जिले में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। मुन्ना को कुख्यात बदमाश सुनील राठी ने गोली मारी थी। जिसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। लेकिन जेल में पिस्टल कैसे आयी ये बड़ा सवाल है। वहीं सुनील ने हत्या करने से पहले फोन पर किसी से बात की थी। जिसको लेकर जेल प्रशासन पर सवाल उठा रहे हैं। ऐसे में यूपी पुलिस किसी भी तरह लापरवाही के मूड में नहीं है।

loading...
Loading...

You may also like

अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ किसी भी सूरत में नहीं किया जाएगा बर्दाश्त- शिवपाल

लखनऊ। समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील सपा