क्या आप जानते हैं मकर संक्रांति से जुडी यह 4 पौराणिक कथाएं

- in धर्म
Loading...

आप सभी इस बात से वाकिफ ही होंगे कि भारतवर्ष में प्रतिदिन कोई ना कोई त्यौहार अवश्य मनाया जाता है. ऐसे में हर साल में बहुत से त्यौहार होते हैं जो बहुत ख़ास होते हैं. अब कल यानी 14 जनवरी को मकर संक्रांति का त्यौहार मनाया जाने वाला है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं मकर संक्रांति से जुडी पौराणिक कहानियाँ. आइए बताते हैं.

कथा 1 – पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन भगवान सूर्य देव अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उनके घर जाते हैं. चूँकि शनि मकर राशी के देवता हैं इसी कारन इसे मकर संक्रांति कहा जाता हैं.

कथा 2 – महाभारत युद्ध के महान योद्धा और कौरवों की सेना के सेनापति भीष्म पितामह को इच्छा मुत्यु का वरदान प्राप्त था. अर्जुन के बाण लगाने के बाद उन्होंने इस दिन की महत्ता को जानते हुए अपनी मृत्यु के लिए इस दिन को निर्धारित किया था. भीष्म जानते थे कि सूर्य दक्षिणायन होने पर व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त नहीं होता और उसे इस मृत्युलोक में पुनः जन्म लेना पड़ता हैं. महाभारत युद्ध के बाद जब सूर्य उत्तरायण हुआ तभी भीष्म पितामह ने प्राण त्याग दिए.

कथा 3 – एक धार्मिक मान्यता के अनुसार सक्रांति के दिन ही माँ गंगा स्वर्ग के अवतरित होकर रजा भागीरथ के पीछे-पीछे कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई गंगासागर तक पहुँची थी. धरती पर अवतरित होने के बाद राजा भागीरथ ने गंगा के पावन जल से अपने पूर्वजों का तर्पण किया था. इस दिन पर गंगा सागर पर नदी के किनारे भव्य मेले का आयोजन किया जाता हैं.

कथा 4 –माता यशोदा ने संतान प्राप्ति श्री कृष्ण के लिए ही इसी दिन व्रत रखा था. इस दिन महिलाएं तिल, गुड आदि दूसरी महिलाओं को बाँटती हैं. ऐसा माना जाता हैं कि तिल की उत्पत्ति भगवान् विष्णु से हुई थी. इसलिये इसका प्रयोग पापों से मुक्त करता हैं. तिल के उपयोग से शरीर निरोगी रहता है और शरीर में गर्मी का संचार रहता हैं.

Loading...
loading...

You may also like

जानिए कैसे हुई थी भगवान हनुमानजी की मृत्यु लेकिन…

Loading... 🔊 Listen This News आप सभी ने