धमाकेदार नृत्य व पुरस्कार वितरण के साथ एमिफोरिया का समापन

एमिफोरियाएमिफोरिया

लखनऊ। एमिटी विश्वविद्यालय में तीन दिन पहले मिस और मिस्टर एमिटी प्रतियोगिता के साथ शुरु हुआ।  जिसका शुक्रवार को एमिफोरिया-2018 का  छात्र बैंड और डांस टीमों की धमाकेदार प्रस्तुति के साथ समापन हो गया।  तीन दिनों तक आयोजित  दर्जनों प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किए गए।

ये भी पढ़ें :-एमिटी डिजाइनर्स अवार्डस् में बिखरे फैशन के रंग 

एमिफोरिया-2018 में 56 से भी अधिक प्रतियोगी कार्यक्रम

एमिफोरिया-2018 में एमिटी विश्वविद्यालय लखनऊ परिसर के विभिन्न विभागों द्वारा 56 से भी अधिक प्रतियोगी कार्यक्रम आयोजित किए गए। जिसमें इंद्रधनुष, ओपेन माइक, एकतान, एलएमआरसी म्यूरल डिजाइन  प्रतियोगिता, यूथ पार्लियामेंट, माइम, टैक्नो साल्यूशन, फोटो वेंचर, मार्कजोन, चैट बोट, पेंट योर इमेजिनेशन, अंताक्षरी सहित मिस्टर और मिस एमिटी, एमिटी डिजाइनरस् आवर्ड और बैंड प्रतियोगिता आदि प्रमुख रही।

ठुमरी गायिका सुनीता झिंगरन ने  विजेताओं को दिया पुरस्कार

मुख्य अतिथि प्रसिद्ध ठुमरी गायिका सुनीता झिंगरन ने सभी विजेताओं को पुरस्कार वितरित किया। इस अवसर पर उन्होनें एमिटी विश्वविद्यालय को कार्यक्रम के सफल अयोजन हेतु बधाई देते हुए विद्यार्थीयों को लगन और सर्मपण के साथ जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित भी किया।

ये भी पढ़ें :-एमिटी के तीन दिवसीय वार्षिकोत्सव ‘एमिफोरिया-2018’ 

भारतीय सिनेमा के सौ वर्षाें के इतिहास की झलक दिखाई

तीसरे दिन की शाम एमिटी स्कूल आफ कम्यूनिकेशन द्वारा प्रस्तुत ‘मेरे पास सिने-मा है’ नृत्य प्रतियोगिता से सजी। जिसमें एमिटी स्कूल आफ कम्यूनिकेशन के छात्र-छात्राओं के समूह द्वारा भारतीय सिनेमा के सौ वर्षाें के इतिहास की झलक दिखाई गई। भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध संवादों और मील का पत्थर कहे जाने वाले याादगार गीतों से दर्शकों सिनेमा के सुनहरे अतीत से रूबरू हुए। मनमोहक नृत्यों की प्रस्तुति की गई।कार्यक्रम में एमिटी विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति सेवानिवृत्त मेजर जनरल के.के. ओहरी (एवीएसएम), निदेशक प्रोजेक्ट्स  नरेश चन्द्र, संयोजिका एमीफोरिया एवं एमिटी इंस्टीट्यूट आफ फार्मेसी की निदेशिका डा. सुनीला धनेश्वर, उप निदेशक सूचना एवं जनसंपर्क आशुतोष चौबे आदि उपस्थित रहे।

loading...
Loading...

You may also like

भारी विरोध के बीच लोकसभा में फिर पेश हुआ ‘ट्रिपल तलाक’ विधेयक

नई दिल्ली। मुस्लिम महिलाओं को समान नागरिक अधिकार