पूर्व एसडीएम बीकेटी व दारोगा को बचा रही है पुलिस

एसडीएम
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। जानकीपुरम के तिवारीपुर में जालसाजी कर सरकारी जमीन बेचने के मामले में पूर्व एसडीएम बीकेटी और गुडबा थाने के एक सब इंस्पेक्टर का नाम एंटी भू-माफिया की लिस्ट में आने के बाद भी आलाधिकारी दोनों को बचाने में जुट हुए हैं। पीडि़तों का आरोप है कि तहरीर से दोनों का नाम हटाने के लिए उन लोगों पर दबाव बनाया जा रहा है। इस मामले में पीडि़तों ने मंगलवार को बीकेटी तहसील में आयोजित पूर्ण समाधान दिवस में शिकायती पत्र देकर सभी आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।

पूर्व एसडीएम बीकेटी और गुडबा थाने के एक सब इंस्पेक्टर का नाम एंटी भू-माफिया की लिस्ट में

पीडि़त भूतपूर्व सैनिक भू-माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई के लिए लगातार आलाधिकारियों के आफिसों में चक्कर काट रहा है। मिली जानकारी के अनुसार पीडि़त तिवारीपुर जानकीपुरम निवासी व एयरफोर्स से रिटायर्ड अभिनेष कुमार सिंह, केशव नगर निवासी कुसुम सिंह, सन्ध्या सिंह, शारदा देवी और तिवारीपुर के इ ितयाज अली को वर्तमान में गुड बा थाने में तैनात एक सब इंस्पेक्टर और पूर्व एसडीएम बीकेटी समेत बीकेटी के बरगदी मगठ निवासी रतनलाल व उनका लडक़ा संतोष तथा मडिय़ांव गांव निवासी साबिर अली ने उन लोगों को वर्ष 2011 और वर्ष 2012 में किसान खुशीराम निवासी धतिंगरा से तिवारीपुर में अलग-अलग करीब 10 हजार वर्गफुट जमीन का बैनामा करवा दिया। पीडि़तों के मुताबिक जमीन के एवज में आरोपितों ने करीब 60 लाख रुपये ऐंठ लिए। इतना ही नहीं सभी को जमीन पर कब्जा भी दिलवा कर सभी प्लॉटों की बाउंड्रीवॉल करवा दी गई। पीडि़त अभिनेष ने बताया कि जब वह दिसंबर 2017 में जमीन पर भवन का निर्माण करवाने लगे, मौजूदा लेखपाल पहुंच कर यह कह कर काम रुकवा दिया कि जमीन ग्राम समाज की बंजर जमीन है।

ठगी का अहसास होने पर लगाई एसडीएम से गुहार

पीडि़तों को जब ठगी का एहसास हुआ, उन्होंने एसडीएम बीकेटी सूर्यकांत त्रिपाठी दरवाजा खटखटाया और जांच कर करवाई मांग की। एसडीएम की जांच में आया कि आरोपियों ने जालसाजी करके कई बीघे सरकारी जमीन को बेच दी है। उसके बाद एसडीएम ने 25 जुलाई को सभी आरोपितों के विरुद्ध एंटी-भूमाफिया के तहत कार्रवाई करने के लिए इंस्पेक्टर जानकीपुरम को निर्देश दिया था। लेकिन पुलिस दो बड़े मगरमच्छ पूर्व एसडीएम बीकेटी और गुडंबा ताने में तैनात दारोगा को बचाने में जुटी है।

ये भी पढ़े : देवरिया कांड: हाईकोर्ट ने योगी सरकार को किया तलब, सीबीआई से मांगी जांच रिपोर्ट

दारोगा ने लौटाए रुपये और पूर्व एसडीएम ने धमकाया

पीडि़त भूतपूर्व सैनिक के मुताबिक ठगी का अहसास होने पर वह अधिकारी से मिल कर न्याय की गुहार लगाने पर दारोगा की सांसें फूली और वह अपने बैंक एकाउंट से चार लाख रुपये उसके खाते में ट्रांसफर किये, लेकिन ऊंची पहुंच रखने वाला पूर्व एसडीएम बीकेटी ने फोन करके पूर्व फौजी को धमकी दे डाली। जिसकी रिकार्डिंग पूर्व सैनिक के मोबाइल फोन में रिकॉर्ड हुई है। पीडि़त धमकी की रिकॉर्डिंग अधिकारियों को सुना कर न्याय की गुहार लगा रहा है। फिर भी अभी तक न्याय पाने से वह दूर है।

एंटी-भूमाफिया में क्या होती कार्रवाई, इंस्पेक्टर को पता ही नही

इंस्पेक्टर जानकीपुरम् उमाकांत दीपक का कहना है,कि एंटी-भूमाफिया के बारे में क्या कार्रवाई करनी है, इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। पुलिस के उच्चाधिकारियों के निर्देश मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। जबकि एसडीएम बीकेटी सूर्यकांत त्रिपाठी ने बीती 25 जुलाई को जानकीपुरम् इंस्पेक्टर को जांच कर कार्रवाई के आदेश दिये थे।

loading...

2 thoughts on “पूर्व एसडीएम बीकेटी व दारोगा को बचा रही है पुलिस”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *