दो पत्थर हमारी ओर से लग जायेंगे मंदिर बनाने में, तो बहुत ख़ुशी होगी, मुस्लिम छात्र नेता ने दी सहयोग राशि

राम मंदिर निर्माण
Loading...

आगरा अयोध्या रामजन्मभूमि स्थल मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला 9 नवंबर को आया था। यह फैसला हुन्दुओं के पक्ष में आया था। फैसले के बाद से ही देश में हिन्दू और मुस्लिम दोनों पक्षों ने गंगा-जमुनी तहजीब का परिचय देते हुए शान्ति और सौहार्द के साथ इस फैसले का स्वागत किया।

प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये थे, मगर राष्ट्रहित को सर्वोपरि मानते हुए देश वासिओं ने जिस तरह आपसी एकता का परिचय दिया, उससे सारे इंतजाम धरे के धरे रह गए। पूरे देश में इस फैसले के बाद एक भी घटना की कोई सूचना नहीं है, बल्कि मुस्लिम समुदाय के लोगों ने हिन्दुओं को फूल देकर बधाई दी और हिन्दुओं ने मुस्लिम समुदाय के लोगों का मुह मीठा कराया।

राम मंदिर निर्माण के लिए दी सहयोग राशि  

दोनों पक्ष के लोगों ने फैसले के बाद ही एक दुसरे के गले लगकर दुनिया भर में भारतीय एकता और अखंडता की  मिसाल पेश की है। वहीँ इस फैसले के बाद आगरा के मुस्लिम छात्र ने जिला प्रशासन को मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि का चेक सौंपा है।

जानकारी के अनुसार, अयोध्या में विवादित रामजन्मभूमि स्थल को हिंदू पक्षों को देने के फैसले के बाद राष्ट्रीय छात्र संगठन (NSUI) के जिला अध्यक्ष ने सोमवार को वहां एक राम मंदिर के निर्माण के लिए 1100 रुपये का योगदान दिया।

एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष बिलाल अहमद ने जिला प्रशासन को 1,100 रुपये का चेक सौंप कर देश में गंगा-जमुनी तहजीब का परिचय दिया है।


कलेक्टोरेट में सिटी मजिस्ट्रेट अरुण कुमार यादव को चेक सौंपते हुए, बिलाल ने कहा, दो पत्थर हमारी ओर से लग जायेंगे मंदिर बनाने में, तो बहुत ख़ुशी होगी।”

अयोध्या के फैसले पर खुशी व्यक्त करते हुए, बिलाल ने कहा, “अदालत ने मामले में एक उल्लेखनीय निर्णय लिया है। यह किसी की जीत या हार नहीं है। जयकार करने के लिए सबसे बड़ी बात यह है कि दक्षिणपंथी राजनेताओं द्वारा समाज में घृणा फैलाने के लिए इस्तेमाल किया गया ऐसा पुराना विवाद आखिरकार समाप्त हो गया। अब हमें उम्मीद है कि सरकार अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने पर ध्यान केंद्रित करेगी। ”

Loading...
loading...

You may also like

भारतीय रिजर्व बैंक ने मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व