गोपालगंज: नाबालिग से रेप कर जिंदा जलाने वाले को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

- in क्राइम
गोपालगंजगोपालगंज

गोपालगंज। नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म कर जिंदा जलाने के दोषी करार दिये गये अभियुक्त को गोपालगंज अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने शनिवार को फांसी की सजा सुनायी। बिहार में पोक्सो एक्ट के तहत फांसी दिये जाने की यह पहली सजा बतायी जा रही है। मालूम हो कि दोषी अभियुक्त ने नाबालिग बच्ची को गोपालगंज से अगवा कर गुजरात के बड़ोदरा ले गया। वहां उसने दुष्कर्म करने के बाद जिंदा जला दिया था। जानकारी के मुताबिक, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-1 भरत तिवारी की अदालत में शनिवार को नाबालिग से दुष्कर्म कर जिंदा जलाने के मामले की सुनवाई हुई। साथ ही सजा का ऐलान किया गया।

गोपालगंज जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने सुनाई सजा

फांसी की सजा सुनाये जाने के बाद दोषी करार दिये गये अभियुक्त को कड़ी सुरक्षा में चनावे जेल भेजा गया। मांझा थाने के पिपरा गांव की सिम्मी (बदला नाम) का नौ मार्च, 2017 को अपहरण कर लिया गया था। अपहरण के समय नाबालिग बच्ची अपनी दो अन्य बहनों के साथ सो रही थी। बहनों ने उसके गायब होने की सूचना दी। अभी परिवार के लोग उसकी खोजबीन कर ही रहे थे कि मांझा थाने की पुलिस ने 20 अप्रैल को सूचना दी कि गुजरात के बड़ोदरा जिले के मकरपुरा थाने में नाबालिग का जला हुआ शव बरामद किया गया है।

ये भी पढ़ें: यूपी पुलिस भर्ती 2015-16 के अभ्यर्थियों ने भाजपा कार्यालय के सामने किया प्रदर्शन 

करीब ढाई माह पहले हुई थी घटना

19 अप्रैल, 2017 की रात किरोसिन छिडक़ कर नाबालिग की हत्या कर दी गयी थी। मांझा थाने में कांड संख्या 67ध्2017 नाबालिग बच्ची के पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराते हुए मांझा थाने के कर्णपुरा गांव के अजित कुमार को नामजद आरोपित किया था। इस मामले में पुलिस ने अजित कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। आरोप पत्र दायर होने के बाद अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-1 की अदालत ने शनिवार को सजा सुनायी।

loading...

You may also like

गोरखपुर : बच्चों के मौत के मामले में आरोपी डॉ. कफील खान फिर से गिरफ्तार

गोरखपुर। गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में पिछले साल बच्चों के