मोदी सरकार नई कार पर देगी 2.5 लाख की सब्सिडी, बस करना होगा ये काम

2.5 लाख की सब्सिडी2.5 लाख की सब्सिडी

नई दिल्ली अगर आप नई कार लेने का योजना बना रहे हैं, तो कुछ दिन और रुक जाइये। कुछ दिन का इंतजार आपके लिए काफ़ी फायदेमंद साबित हो सकता है। केंद्र की मोदी सरकार नई ई-कार खरीदने वालों को 2.5 लाख की सब्सिडी का बड़ी राहत देने जा रही है। इस इंतजार से आप सरकार की सब्सिडी योजना के तहत ढाई लाख रुपये तक का फायदा उठा सकते हैं।

नई ई-कार खरीदने वालों के लिए 2.5 लाख की सब्सिडी का कर सकती है ऐलान

केंद्र सरकार इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड गाड़ियों के लिए 9,400 करोड़ रुपये के पैकेज के तहत नई ई-कार खरीदने वालों के लिए 2.5 लाख की सब्सिडी का ऐलान कर सकती है। बतातें चलें कि केंद्र सरकार बढ़ते प्रदूषण को कम करने और इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए जल्द बड़ी योजना की घोषणा करने का प्लान कर रही है।

टू-व्हीलर पर 30 हजार की सब्सिडी

मोदी सरकार की डीजल या पेट्रोल से चलने वाली कार को स्क्रैप करके इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर सब्सिडी देने की प्लानिंग है। इसी तरह टू-व्हीलर लेने पर भी सब्सिडी का फायदा मिलेगा। पुरानी कार को स्क्रैप करके नई इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर 2.5 लाख की सब्सिडी सरकार की तरफ से दी जाएगी। वहीं 1.5 लाख रुपये तक का टू-व्हीलर खरीदने पर करीब 30 हजार रुपये की सब्सिडी मिलेगी। खबर है कि सरकार ने इसे लेकर एक ड्रॉफ्ट तैयार कर लिया है।

ये भी पढ़ें :-मैं जहां हूं,वही खुश हूं : रघुराम राजन 

बस मालिकों के लिए अतिरिक्त सब्सिडी का प्रावधान

मोदी सरकार के इस प्लान में कैब एग्रीगेटर और बस मालिकों के लिए अतिरिक्त सब्सिडी का प्रावधान है। टैक्सी के लिए ई-कार खरीदने वालों को 15 लाख रुपये तक की कार पर 1.5 लाख से लेकर 2.5 लाख की सब्सिडी दी जाएगी। इसके अलावा प्री-बीएस थ्री वाहनों को स्क्रैप करके नई इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर यह छूट मिलेगी। कार को स्क्रैप करने पर मान्यता प्राप्त स्क्रैपिंग सेंटर से मिला सर्टिफिकेट ही मान्य होगा।

पांच साल में खर्च होंगे 1500 करोड़

दोपहिया और चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार की तरफ से आने वाले पांच सालों में 1500 करोड़ रुपये खर्च करने की उम्मीद है। इसमें से 1000 करोड़ रुपये से चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना है और बाकी से इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर छूट देने का प्लान है। भारी उद्योग विभाग की तरफ से जारी किए गए प्रस्ताव के अनुसार मेट्रो सिटीज में हर 9 वर्ग किलोमीटर एरिया पर एक चार्जिंग स्टेशन लगाने की योजना है।

हाइवे पर हर 25 किमी पर होगा चार्जिंग स्टेशन

वहीं 10 लाख से ज्यादा आबादी और स्मार्ट सिटी के साथ ही दिल्ली-जयपुर हाइवे, दिल्ली-चंडीगढ़, चेन्नई बेंगलुरु और मुंबई-पुणे हाइवे पर प्रत्येक 25 किलोमीटर के बाद चार्जिंग की सुविधा मिलेगी। आपको बता दें कि फरवरी 2018 में आयोजित ऑटो एक्सपो में कार निर्माता कंपनियों ने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर ज्यादा फोकस किया था। कार निर्माताओं का कहना है कि इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए सरकार को मदद करनी चाहिए।

loading...
Loading...

You may also like

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे से पहले पहुंचे दो संदिग्ध ईरानी गायब

इंदौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे के ठीक