ग्वालियर: स्थानीय लोगों से पैसे ऐंठने के लिए बदमाशों ने उठाया ऐसा कदम

इंदौर में लूटइंदौर में लूट
Loading...

मध्यप्रदेश। आज गुरुवार को ऐसे मामले क खुला हुआ जिसे सुनकर सभी हैरानी में पड़ गये हैं। बताया जा रहा हैं कि ग्वालियर में कुछ लोगों ने वहाँ के स्थानीय लोगों से पैसे ऐंठने के लिए कथित रूप से पुलिस अधिकारी बनकर फर्जी पुलिस स्टेशन बना दिया। इस मामले में चार लोग बताए जा रहे हैं।

इस मामले में जब एसपी क्राइम पंकज पांडे से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि, ‘हमें अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि, उन्हें किसी अन्य उद्देश्य के लिए पुलिस द्वारा नियुक्त किया गया था या फर्जी तरीके से यह पुलिस स्टेशन चल रहा था। फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है।’


जानकारी के मुताबिक, यहां सब्जीवाले और दैनिक मजदूर पुलिस की वर्दी में घूम रहे थे और ग्वालियर स्थित फोनी पुलिस थाने में बैठकर पुलिसकर्मी की तरह व्यवहार करते थे। इस गैंग ने न सिर्फ स्थानीय लोगों से पैसे वसूले बल्कि लोगों की शिकायतें भी दर्ज कीं।

व्यवस्था की उदासीनता ने राष्ट्रीय स्तर के तैराकी को किया पीड़ित, चाय बेचकर हो रहा निर्वाह 

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के औचिक निरीक्षण से इस गैंग का पर्दाफाश हुआ और एक डीएसपी स्तर के अधिकारी ने 2018 में मामले की जांच की। मध्य प्रदेश पुलिस ने इस रिपोर्ट को पूरी तरह गुप्त रखा था।

पुलिस की वर्दी में खुद को बताया सब्जीवाला

गैंग के भंडाफोड़ के बारे में व्यापम के मुखबिर आशीष चतुर्वेदी ने बताया कि, एक अधिकारी दिसंबर 2017 में ग्वालियर मेला ग्राउंड में व्यवस्था देख रहे थे, तभी खाकी वर्दी में चार लोगों ने उन्हें सलाम किया। जिस तरीके से उन्होंने सलाम किया, वह अधिकारी को कुछ संदेहास्पद लगा।

इसके बाद अधिकारी ने चारों से उनका परिचय पूछा, बदले में उन्हें जो जवाब मिला उसे सुन वे हैरान रह गए। दो ने बताया कि वे मजदूर हैं, एक ने खुद को पेंटर और एक ने सब्जीवाला बताया। इसके बाद एसपी नवनीत भसीन ने जांच के आदेश दिए।

दिल्ली : पानी को लेकर नहीं थम रहा घमासान, ‘जलबोर्ड के अध्यक्ष जवाब दें’ के होर्डिन लगे 

आशीष ने बताया, ‘रिपोर्ट साफ है। यह बताती है कि चारों आरोपी एक इंस्पेक्टर के निर्देश में पुलिस का रूप धरे हुए थे। जांच में यह भी सामने आया कि इंस्पेक्टर एक पुलिस थाने से संचालन कर रहा था जो पुलिस रिकॉर्ड में मौजूद ही नहीं है।

अपनी रिपोर्ट में अधिकारी ने वसूली और भ्रष्टाचार की जांच की सलाह भी दी थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ। मैं कोर्ट जाकर आरोपियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने जा रहा हूं।’

Loading...
loading...

You may also like

लालू जी के संतान हैं, हम किसी से नहीं डरते : तेजस्वी

Loading... 🔊 Listen This News रांची। लालूजी जब