हरदोई: दोहरे हत्याकांड में बीजेपी विधायक रामपाल का हाथ, पीड़ित परिवार का आरोप

बीजेपी विधायक रामपालबीजेपी विधायक रामपाल

लखनऊ। हरदोई जनपद के बेहसार निवासी पीड़ित परिवार रामखुशी ने बताया कि उनके पुत्र विमलेश कठेरिया व संजय कुमार की 17 अप्रैल को बोलेरो से कुचलकर हत्या कर दी गई थी। यूपी प्रेसक्लब में शुक्रवार को रामखुशी ने बताया कि उनके पुत्र विमलेश कठेरिया तथा संजय कुमार की चौकी इंचार्ज राजपाल, थानाध्यक्ष अमित भदौरिया एवं बीजेपी विधायक रामपाल की शह पर साजिशन हत्या की गई।

हत्यारों ने कठेरिया व उनके भाई को बोलेरो से कुचलकर हत्या करने का प्रयास किया

रामखुशी ने बताया कि 16 अप्रैल को सूरजपाल से मामूली कहासुनी पर अखिलेश कुमार को पुलिस उठाकर ले गयी थी।  इसकी सूचना फोन से पुलिस ने विमलेश कठेरिया को दी। साथ ही जमानत के लिए बोला गया। जिसमें  अगले दिन कठेरिया थाने जाकर पुलिस वार्ता के बाद अपने भाई के साथ थाने से बाहर निकलने पर वहां पर मौजूद पहले से ही घात लगाये हत्यारों ने कठेरिया व उनके भाई को बोलेरो से कुचलकर हत्या करने का प्रयास किया। जिसमें संजय कुमार की मौके पर ही मौत हो गयी और विमलेश कठेरिया को पैर में चोट आई।

ये भी पढ़ें :-ठगी के पैसे से इस पार्टी से लड़ा था चुनाव, गिरोह का पर्दाफाश

रास्ते में ही पुलिस की मिलीभगत से हमलावारों ने विमलेश को मार डाला

उपचार के लिए कठेरिया को पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया और वहां से लखनऊ रेफर कर दिया। जहां रास्ते में ही पुलिस की मिलीभगत से हमलावारों ने विमलेश को मार डाला।  इस पूरे दोहरे हत्याकांड घटना में पीड़ित परिवार का आरोप है कि हमलावरों  पर बीजेपी विधायक रामपाल का हाथ है। सारा का सारा मामला चुनावी रंजिश है।

9 जुलाई 2013 में भी विमलेश कठेरिया पर किया जा चुका था फायर

जिसमें 9 जुलाई 2013 में भी विमलेश कठेरिया पर फायर किया जा चुका था, लेकिन इस बार विरोधियों की चाल साजिश के तहत कामयाब हो गई है।  पीड़ित परिवार ने बताया पुलिस ने इस मामले में किसी भी तरह की रिपोर्ट नहीं लिखी है और न ही कार्रवाई  की है। इस पूरे मामले पर सत्ता पक्ष बीजेपी विधायक रामपाल ने अपना दबाव बनाकर रखा है। हालांकि न्याय को लेकर पीड़ित परिवार पुलिस अधीक्षक से भी मिला पर अभी तक किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं  हुई हैं। परिवार शासन-प्रशासन के चक्कर लगा लगा कर दर दर भटकने को मजबूर है। पीड़ितों का कहना है आरोपी पकड़े जाएं, आरोपियों पर कार्रवाई हो, न्याय मिले परिवार ने चेतावनी देते हुए बताया अगर उन्हें न्याय नहीं मिला तो पूरा परिवार आत्मदाह करने के लिए मजबूर हो जाएगा।

loading...

You may also like

पहले ही दिन खुली आयुष्मान भारत की पोल, डॉक्टर को ही नहीं थी कोई जानकारी

लखनऊ। रविवार को उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के इदिरा