हरियाणा सरकार की पहल, अब महिलाओं को एक रुपये में मिलेगी सैनिटरी नैपकिन

सैनिटरी नैपकिनसैनिटरी नैपकिन

हरियाणा।  सैनिटरी नैपकिन वो भी एक रुपये में बेहद चौंकाने वाली बात है। एक तरफ जहां हम सैनिटरी नैपकिन के लिए बाजारों में उसकी अच्छी खासी कीमत  अदा  कर रहे है , वही एक राज्य सरकार ऐसी भी है जो एक रुपये में सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध करा रही है। जिस पहल से सभी वर्ग कि महिलाओं तक सैनिटरी नैपकिन पहुँच पायेगी। ये पहल है हरियाणा कि खट्टर सरकार कि जिसमे स्कूल की छात्राओं को अगस्त से एक रुपए में सैनिटरी नैपकिन दिए जाएंगे। इसके अलावा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों की महिलाओं को भी इस योजना में शामिल किया जाएगा।

ये भी पढ़े :विवादों में घिरी इस साल की मोस्ट अवेडेड फिल्म ‘संजू’, एक्टिविस्ट पृथ्वी ने दर्ज की शिकायत

18 साल तक की लड़कियों को स्कूल में मिलेगे सैनिटरी नैपकिन

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि स्कूली शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक के बाद एक रुपये में  नैपकिन का एक पैकेट देने की निर्णय लिया गया है । खट्टर ने कहा कि 18 साल तक की लड़कियों को नैपकिन स्कूल में तथा इससे अधिक आयु वाली महिलाओं को प्रत्येक माह जन वितरण प्रणाली के माध्यम से राशन की दुकानों में नैपकिन मुहैया कराई जाएंगी।

ये भी पढ़े :पीएम मोदी 50 हजार लोंगो के साथ देहरादून में करेंगे योगाभ्यास 

 40 प्रतिशत महिलाएं माहवारी के दौरान इस्तेमाल करती हैं  कपड़ा

फिल्म पैडमैन के आने बाद महिलाओं की इस समस्या कि तरफ ध्यान खींचा । एक समय ऐसा भी था जब हम इस पर खुल कर बात भी नहीं करते थे । आज सरकार इस विषय पर विचार कर हरियाणा सरकार बेहतरीन पहल की  शुरुआत की है । बाजार में मिलने वाले नैपकिन इतनी ज्यादा कीमत में मिलते जिसकी वजह से गरीब वर्ग कि महिलाये सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल नहीं कर पाती है । सरकार ने  कहा  है कि एक सर्वे के अनुसार केवल 28 प्रतिशत लड़कियां मासिक धर्म के दौरान सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं, वहीं 40 प्रतिशत महिलाएं माहवारी के दौरान कपड़े का इस्तेमाल करती हैं, जिससे उन्हें बीमारियों का खतरा हो सकता है।

loading...
Loading...

You may also like

विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ। विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे