जापान में 60 साल का शक्तिशाली तूफान हेजिबीस ने कहर बरपाना कर दिया शुरू

तूफान हेजिबीस
Loading...

तोक्यो। जापान में भीषण तूफान हेजिबीस ने शनिवार को दस्तक दे दी। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो यह जापान में आने वाला 6 दशक का संभवतः सबसे खराब तूफान है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बाद ही जापान में इसका सामना करने के लिए कदम उठाए गए बावजूद इसके शनिवार को एक शख्स की मौत हो गई और सैकड़ों घायल हो गए। तूफान के चलते 73 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। तूफान के डर से जापान के रेलवे स्टेशन ठप हो गए, गलियां सुनसान हो गईं और लोग अपने घरों में दुबक गए। जापान के मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार शाम वहां 144 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं।

तूफान के आने से पहले अधिकारियों ने इसके भीषण प्रभाव को देखते हुए आपदा का सर्वोच्च स्तर जारी किया था और अभूतपूर्व बारिश की चेतावनी दी थी। प्रशासन ने लाखों लोगों को सुरक्षित जगह जाने की सलाह दी है। अधिकारियों ने भीषण बाढ़ और भूस्खलन की कई घटनाओं की रिपोर्ट दी है। इन घटनाओं में कई लोग लापता हो गए। नदी के आसपास रहने वाले लोगों को घर की दूसरी मंजिल पर ही रहने की सलाह दी गई है। तूफान से पहले समंदर में भूकंप भी आया जिसकी तीव्रता 5.3 थी लेकिन इसका असर ज्यादा नहीं हुआ क्योंकि सेंटर काफी नीचे था।

तूफान के आने से पहले ही इसके प्रभाव के चलते तेज बारिश हुई। रग्बी विश्व कप के दो मैचों को भी रद्द कर दिया गया है। तूफान की वजह से जापानी ग्रैंड प्रिक्स में देरी हुई तथा तोक्यो क्षेत्र में सभी उड़ानें रोक दी गईं। जापान मौसम विज्ञान विभाग (जेएमए) ने बताया कि तूफान ने स्थानीय समयानुसार शाम करीब सात बजे से पहले मुख्य होंशू द्वीप पर दस्तक दी। इसके बाद यह तोक्यो से दक्षिण पश्चिम एक प्रायद्वीप इजू की ओर मुड़ गया। तूफान कमजोर पड़ गया है, लेकिन समुद्र तट पर पहुंचने से पहले अब भी यह 216 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चल रहा है। Hagibis का तागालोग भाषा में अर्थ होता है गति- इसलिए इस भयानक तूफान को यह नाम दिया गया है।

तेज हवाओं के चलते बवंडर भी उठ रहे हैं। तट पर दस्तक देने से पहले तूफान की चपेट में आकर एक व्यक्ति की मौत हो गई। पूर्वी तोक्यो के चिबा में तूफान के कारण एक कार पलट गई जिससे ड्राइवर की मौत हो गई। जेएमए के अधिकारी यासुशी काजीवारा ने पत्रकारों को बताया, ‘शहर में भीषण भारी बारिश हो रही है इसी कारण शहरों और गांवों के लिए आपात चेतावनी जारी की गई है।’ स्थानीय प्रशासन ने कहा कि एक शख्स की कार तूफान के कारण बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई और कार का एक हिस्सा भी 49 साल के शख्स पर गिर गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

हेजिबीस के चलते लोगों को नदियों और समंदर के किनारे न जाने की चेतावनी दी गई। समंदर में बड़ी-बड़ी लहरें देखी गईं और दूर तक की चीजें समंदर में चली गईं। समंदर के पानी में कारें भी तैरती देखी गईं। निशिकावा नदी से कई लोगों को बचाया गया। जापान के पब्लिक ब्रॉडकास्टर के मुताबिक नदियों में उफान आ गया है और उनके पास जाना खतरे से खाली नहीं है।

तूफान के बाद राहत और बचाव के लिए 17000 जवानों को तैनात किया गया है। जापान के टीवी चैनल में ऐसे फुटेज दिखाए गए जिनमें हवा में लोगों का सामान जैसे चप्पल या बर्तन उड़ते नजर आए। तूफान तोक्यो की तरफ बढ़ रहा था। ओसाका और तोक्यो के बीच बुलेट ट्रेन भी कैंसल कर दी गई। 1958 में तोक्यों में ऐसा ही तूफान आया था जिसमें लगभग 1200 लोगों की मौत हो गई थी और हजारों घरों में पानी भर गया था।

Loading...
loading...

You may also like

दिवाली पर अलग उपायों को करने से बढ़ने लगती है आमदनी, इस बार जरूर अपनाएं

Loading... 🔊 Listen This News दिवाली के दिन