हिमा दस ने रचा इतिहास, बनी ट्रैक स्पर्धा में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय एथलीट

- in खेल, राष्ट्रीय
हिमा दासहिमा दास

नई दिल्ली। भारत की उदीयमान एथलीट हिमा दास ने गुरुवार को फिनलैंड के टेंपेयर शहर में आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। हिमा विश्व की चैंपियनशिप में किसी भी स्तर पर स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला भारतीय एथलीट हैं।

विश्व चैंपियनशिप की ट्रैक स्पर्धा में पीला तमगा जीते वाली पहली भारतीय

हिमा दास
 

यही नहीं वह विश्व चैंपियनशिप की ट्रैक स्पर्धा में पीला तमगा जीते वाली पहली भारतीय (महिला व पुरुष) एथलीट भी बन गईं।18 वर्ष की हिमा ने फाइनल में 51.46 सेकंड का समय निकाल कर पहला स्थान हासिल किया। लेकिन यह हिमा का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ (51.13 सेकंड) प्रदर्शन नहीं है, जो की उन्होंने पिछले महीने गवाहाटी में हुई राष्ट्रीय इंटर स्टेट चैंपियनशिप में निकाला था।

नीरज ने पोलैंड में स्वर्ण जीत बनाया था विश्व रिकॉर्ड 

इसके साथ ही उन्होंने खुद को स्टार जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा के क्लब में भी शामिल कर लिया है। नीरज ने पोलैंड में 2016 में स्वर्ण जीता के साथ विश्व रिकॉर्ड बनाया था। बता दें की हिमा 52.10 सेकंड के समय के साथ सेमीफाइनल में भी शीर्ष पर रहीं थी।

 ये भी पढ़े : अर्श से फर्श पर पहुंची क्रिकेटर हरमनप्रीत कौर, पंजाब सरकार ने छीना DSP पद 

हिमा दास राष्ट्रमंडल खेलों में रही छठे स्थान पर  

हिमा दास
 

असम की हिमा राष्ट्रमंडल खेलों में छठे स्थान पर रहीं। जिसके बाद से वह लगातार अपना समय सुधारती रही हैं। हाल ही में उन्होंने अंतरराज्यीय चैंपियनशिप में भी 51.13 सेकंड के समय के साथ स्वर्ण जीता था।

सीमा पूनिया ने 2002 और नवदीप कौर ढिल्लन ने 2014 में जीता कांसा

हिमा के अलावा जूनियर विश्व चैंपियनशिप में सीमा पूनिया ने 2002 में डिस्कस थ्रो में कांस्य और नवदीप कौर ढिल्लन ने 2014 में डिस्कस थ्रो में ही कांसा जीता था। हिमा दास ने कहा की, ‘विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर मैं बहुत खुश हूं। मैं सभी देशवासियों और यहां पर मेरा उत्साह बढ़ाने वालों की आभारी हूं।

loading...

You may also like

पीएम को चोर करने पर भड़के सीएम योगी, कहा- राहुल और कांग्रेस देश से मांगे माफ़ी

गोरखपुर। राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति