सैफई वासियों ने यादव परिवार संग लिया होली के रंगों का मज़ा

Loading...

इटावा। होली के लिए प्रसिद्ध मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई में इस बार होली के दो रंग देखने को मिले। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जहां अपने पिता मुलायम सिंह यादव को मंच पर साथ बिठाकर परंपरागत फूलों की होली खेली वहीं प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने होली के लिए अपना अलग मंच सजाया।

शिवपाल ने एसएस मेमोरियल स्कूल मे पंडाल लगाकर कार्यकर्ताओं और लोगों को होली की शुभकामनाएं दी। इस दौरान उनके पुत्र अदित्य यादव भी मौजूद थे। मुलायम परिवार का कोई और सदस्य शिवपाल सिंह यादव की होली में शामिल नहीं हुआ। सांसद धर्मेंद्र यादव, तेज प्रताप सिंह यादव सहित परिवार के अन्य सदस्य भी अखिलेश यादव की होली में पहुंचे।

ये भी पढ़ें:- मुख्यमंत्री योगी ने दिल खोल कर लिया फूल और अबीर का मज़ा

इटावा में होली के अवसर पर मुलायम सिंह यादव का आशीर्वाद लेकर निकले शिवपाल सिंह यादव ने देश और प्रदेश के लोगों को होली की बधाई देते हुए कहा कि मैने कांग्रेस समेत गठबंधन के दलों से साथ चुनाव लडऩे के लिए मनाने का प्रयास किया लेकिन, उन्होंने मुझे शामिल नहीं किया। इसलिए मैंने पीस पार्टी और दूसरे छोटे दलों के साथ गठबंधन किया है।

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव का नाम लिए बगैर कहा कि फीरोजाबाद की लोकसभा सीट हर हाल में जितनी है। उन्होंने कहा कि मैनपुरी लोकसभा सीट नेता जी मुलायम सिंह यादव रिकॉर्ड मतों से जीतें, फिर कन्नौज और इटावा के लोग भी पीछे न रह जाएं और जीत दर्ज कराएं। दरअसल, सपा ने फीरोजाबाद से रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव को टिकट दिया है लेकिन, अब इस सीट से उनके चाचा शिवपाल यादव भी चुनाव लड़ रहे हैं।

ये भी पढ़ें: दोस्ती का मास्टर स्टॉक : खून की नहीं रंगों की होली की दी पीएम इमरान खान ने बधाई 

मुलायम सिंह यादव ने संबोधित करते हुए कहा कि युवाओं को ही अब कमान संभालनी है। सपा के प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा कि गठबंधन होने से उत्तर प्रदेश में भाजपा के लोग परेशान हैं। इसी कारण से भाजपा अपने प्रत्याशी घोषित नहीं कर पा रही है। भाजपा ने जो वादे लोगों से किए थे वे पूरे नहीं कर पाई। उन्होंने कहा कि सरकार से पैरामिलिट्री फोर्स दुखी है। वोट के जवान मार दिया गए। साधारण बस से जवानों को श्रीनगर भेज दिया गया। रास्ते में कोई जांच भी नहीं हुई। यह साजिश है। जब सरकार बदलेगी तो इसकी जांच होगी। तब बड़े-बड़े लोग फंसेंगे।

Loading...
loading...

You may also like

Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण से भारत में पड़ेगा यह प्रभाव

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। 2019