Main Sliderफैशन/शैलीमनोरंजन

कैसे करें असली और नकली कपड़ो की पहचान, जानिए कुछ खास बातें

लाइफस्टाइल डेस्क। महंगाई चाहे कितनी भी हो लेकिन बहुत से लोग को ब्रैंड्स के कपड़े पहने का शौक होता हैं। अब तो हर चीज में नक़ल होने लगी। चाहें वो खानें की चीज हो या पहने की। बड़े ब्रैंड्स की नकल करने वाले फेक ब्रैंड्स की अपनी ही एक इंडस्ट्री हैं, और ये तेज़ी से बढ़ती जा रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कई ग्राहक असली और नकली ब्रैंड से अनजान रहते हैं, और वह फेक ब्रैंड्स का सामान खरीदते हैं, क्योंकि वह कम दाम में मिल रहा होता हैं।

उन्नाव कांड: 90 प्रतिशत जलने से दो अंदरूनी अंग क्षतिग्रस्त, हालत काफी गंभीर 

वहीं, कई लोग ऐसे भी हैं, जो कम दाम का फायदा उठाकर जानकर भी नकली ब्रैंड का सामान खरीदते हैं। अगर आप भी अनजाने में नकली ब्रैंड इंडस्ट्री का शिकार हुए हैं, और असली और फेक में फर्क नहीं कर पाते हैं, तो ये आर्टिकल आपके काम का हैं। हम आपको बता रहे हैं, कि कैसे आप भी असली और नकली ब्रैंड में फर्क समझकर जागरुक रह सकते हैं।

1. सिलाई
कोई भी अच्छा ब्रैंड अपने प्रोडक्ट को बनाने में काफी महनत करता हैं। सिलाई सफाई का साथ-साथ एक तरह से की जाती है। फेक ब्रैंडेड प्रोडक्ट के मुकाबले बड़े ब्रैंड्स हर स्क्वेर इंच के हिसाब से सिलाई करते हैं। यही वजह हैं, कि लक्ज़री चीज़ें क्यों ज़्यादा महंगी आती हैं, क्योंकि वह अपने प्रोडक्ट के लिए अच्छा और ज़्यादा मटीरियल का इस्तेमाल करते हैं।
Kiara Advani Outing Look:कियारा आडवाणी दिखीं कैज़अल अंदाज़ में, जानें उनके चिक बैग की कीमत

अमेरिकी राइड कंपनी उबर ने जारी किये आंकड़े , कंपनी को यौन उत्पीड़न की 6 हजार शिकायतें मिलीं 

2. फैबरिक/कपड़ा
हमेशा ये बात याद रखें कि लग्ज़री ब्रैंड्स का सामान इतना महंगा क्यों होता हैं। ये ब्रैंड्स हमेशा अच्छी क्वालिटी का लेदर, हाई-क्वालिटी के बटन और सभी अच्छी चीज़ों का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, नकली ब्रैंड लेदर की जगह फॉक्स लेदर का इस्तेमाल करते हैं। असली चमड़े का टेक्स्चर एक जैसा नहीं होता और वह चमकता भी नहीं है।

3. ब्रैंड का नाम
Year Ender 2019 रेड या मजेंटा नहीं इस साल लहंगों में रहा इन 7 कलर्स का जलवा
एक समय था जब नकली ब्रैंड्स अपने सामान पर असली ब्रैंड के नाम की स्पेलिंग गलत लिखते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं है फिर भी कॉपीराइट की वजह से नकली ब्रैंड हू-ब-हू कॉपी से बचते हैं। इसलिए सामान खरीदते समय लोगो और उस पर लगे टैग्ज़ को अच्छी तरह जांच लें।

4. कीमत
कीमत का फर्क आपको साफ तौर पर दिख जाता हैं। ज़्यादातर ब्रैंड्स अपने प्रोडक्ट की कीमत ऑनलाइन भी शेयर करते हैं। ज़ाहिर हैं,नकली के मुकाबले असली ब्रैंड या डिज़ाइनर का सामान कहीं ज़्यादा कीमत पर मिलेगा। इसलिए अगर कम दाम की वजह डिस्काउंट बताई जा रही है तो इस बात को न मानें। डिज़ाइनर सामान पर कभी भी 75 प्रतिशत डिस्काउंट नहीं मिलता है। हमेशा लेने से पहले टैग चेक कर लें।
Coconut Milk Benefits: लंबे और खूबसूरत बाल चाहिए तो ऐसे करें नारियल के दूध का इस्तेमाल

5. ब्रैंड का लोगो
आजकल ब्रैंड का लोगो पहचानना इतना आसान नहीं रह गया है। फेक ब्रैंड्स बड़ी सफाई से लोगो को कॉफी कर लेते हैं। हालांकि, इसके बावजूद असली लोगो और नकली में थोड़ा फर्क ज़रूर होता है। वह इसलिए क्योंकि ब्रैंड्स लगातार अपने लोगो में बदलाव करते रहते हैं और साथ ही काफी डीटेल में बनाते हैं। इसके अलावा ब्रैंड्स के लोगो अच्छी क्वालिटी के मेटल या फिर लेथर से बने होते हैं वहीं, नकली प्रोडक्ट्स में या तो लोगो होगा ही नहीं या फिर सस्ती क्वालिटी का लोगो होगा।

loading...
Loading...
Tags