IDBI बैंक के डायरेक्टर ने दिया इस्तीफा, 600 करोड़ की धोखाधड़ी के मामले में आरोपी

IDBI
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। सरकारी बैंक IDBI के दो स्वतंत्र डायरेक्टर्स ने इस्तीफा दे दिया है। इनदोनो डायरेक्टर्स पर 600 करोड़ के कर्ज में धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है। 600 करोड़ के धोखाधड़ी में मुख्य आरोपी निनाद करपे और एस रवि ने निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया है। धोखाधड़ी के इस मामले में सीबीआई द्वारा प्राथमिकी दर्ज कर ली गई थी। जिसके कुछ दिन बाद सीबीआई ने इस मामले में एयरसेल के पूर्व प्रवर्तक सी शिवशंकरन, उसके बेटे और उनके नियंत्रण वाली कंपनियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। दोनों निदेशकों पर आरोप है कि उन्होंने एयरसेल टेलिकॉम कंपनी को बिना किसी कारण के लोन दे दिया था।

IDBI बैंक के मुख्य निदेह्सकों पर शक का छाया

IDBI बैंक में इतने बड़े धोखाधड़ी का मामला सामने आते ही निर्देशक मंडल आरोपों के घेरे में आ गई। जिसके तुरंत बाद सीबीआई जांच के आदेश के नौबत आ गए। 600 करोड़ के कर्ज धोखाधड़ी मामले में आरोपी घोषित होते ही दोनों डायरेक्टर्स ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। IDBI के एक अधिकारी ने बताया कि निर्देशक करपे और रवि 11 मई और 12 मई से आईडीबीआई बैंक के स्वतंत्र निदेशक नहीं रहे। इस बारे में निदेशकों ने निदेशक मंडल को सूचित किया थासीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी में कई बैंक अधिकारियों के समेत कुछ स्वतंत्र निदेशकों के नाम हैं। इनमें ये दोनों निदेशक भी शामिल हैं। यह मामला शिवशंकरन की कंपनियों को 322 करोड़ रुपये और 523 करोड़ रुपये का कर्ज देने से जुड़ा है।

ये भी पढ़ें: विमान का टूटा शीशा, सह-पायलट को बाहर लटकता देख मचा हडकंप

यह है पूरा मामला

IDBI बैंक के डायरेक्टर्स द्वारा अचानक इस्तीफा दे देना कई नए सवाल खड़ा करता है। इस मामले सीबीआई द्वारा दर्ज कराई गई चार्जशीट के अनुसार आईडीबीआई बैंक के पूर्व निदेशकों ने बैंक को 600 करोड़ का चूना लगाया।
इस घोटाले में बैंक के बड़े अधिकारियों ने बंद हो चुकी टेलिकॉम कंपनी एयरसेल के प्रमोटर सी शिवशंकरन को बिना किसी खास कारण के 600 करोड़ रुपये का लोन दिया था। इससे पहले दिया गया 323 करोड़ का लोन भी एनपीए हो गया था। सीबीआई पुरे मामले की जांच कर रही है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *