Main Sliderख़ास खबरफैशन/शैलीस्वास्थ्य

अगर आपको भी आने लगती हैं बैठें-बैठें नींद, तो तुरंत ही टेस्ट कराएं स्टैमिना

लाइफ स्टाइल डेस्क। कभी-कभी लोगों को बैठें-बैठें नींद आने लगती हैं। थकान भी काफी होने लगती हैं। हाथ ,पैर में झुनझुनापन होने लगता हैं । आलस भी आता हैं । कोई काम करने का मन नहीं होता हैं । क्या आप जल्दी थक जाते हैं? क्या आपको इन दिनों नींद ज्यादा लग रही है? क्या आपको भूख नहीं लग रही है? क्या आपको काम करने में थकान हो रही है? यदि हां, तो आखिर क्यों हो रहा है ऐसा? आपने कई लोगों को कहते सुना होगा कि उनका स्टैमिना बहुत कम हो गया है। आइए जानते हैं, आखिर क्या मतलब है इसका?

स्टैमिना का मतलब है आपके शरीर की उर्जा और आपके आंतरिक बल से है। सामान्य शब्दों में कहे तो स्टैमिना कम होने की स्थिति में व्यक्ति किसी काम को मानसिक या शारीरिक रूप से ज्यादा देर तक नहीं कर सकता। आमतौर पर अधिकांश लोग स्टैमिना से शारीरिक कार्यों को करने की क्षमता ही समझते हैं , लेकिन असल में यह मानसिक कार्य और थकानों से भी जुड़ा हैं ।

स्टैमिना कम होने के संकेत

1. सीढ़ियां चढ़ते वक्त थकान लगना
2. थोड़ी दूर तक चलने पर ही थक जाना
3. लंबे समय तक शारीरिक या मानसिक काम नही कर पाना
4. बिना मेहनत किए पसीना आना
5. भूख नहीं लगना और अधिक नींद आना
6. थका हुआ महसूस करना और चक्कर आना
7. आंखों के सामने कभी-कभी धुंधलापन छा जाना
8. हाथों और पैरों में दर्द महसूस होना
तो आईये आपको बताती हूं इसके उपाय –
1. नींद की कमी: रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद लेना जरुरी है, नहीं तो शारीरिक क्षमता कम होने लगती हैं ।
2. कम पानी पीना: मानव शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी है। शरीर में पर्याप्त पानी नहीं होगा तो दिक्कत होगी। 3. जितना ज्यादा हो सके पर्याप्त पानी पिएं।
कार्बोहाइड्रेट की कमी: हमारे शरीर में सबसे ज्यादा एनर्जी कार्बोहाइड्रेट से आती है। इसलिए अपने खान-पान में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बनाये रखें।
आयरन, प्रोटीन और अन्य जरुरी तत्वों की कमी: खाने में पोषक तत्वों की मात्रा बनाए रखने के लिए जरुरी खाद्य का सेवन करें।

loading...
Tags