ख़ास खबरराष्ट्रीयशिक्षा

कोविड-19 से उपजी आर्थिक मंदी के बीच आईआईटी दिल्ली ने तोड़े प्लेसमेंट के सभी रिकॉर्ड

नई दिल्ली| कोविड-19 से उपजी स्थिति के बाद भी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली ने प्लेसमेंट के अपने सभी पुराने रिकार्ड तोड़ दिए। सत्र 2019-20 में विगत वर्ष की अपेक्षा 4 फीसद अधिक प्लेसमेंट हुआ है। आर्थिक मंदी के कारण कई कंपनियों ने अपने ऑफर वापस ले लिए थे उसे बाद भी संस्थान के छात्रों पर कंपनियों ने विश्वास जताया और उनको जॉब ऑफर किए। संस्थान के अधिकारियों के मुताबिक 11 सौ से अधिक छात्रों राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थानों ने जॉब आफर किए।

दिल्ली विश्वविद्यालय में नहीं शुरू हो पाई सेंट स्टीफंस की आवेदन प्रक्रिया

आईआईटी दिल्ली में प्लसमेंट के प्रमुख प्रो.एस धर्मराज ने बताया कि संस्थान ने नौकरी के प्लेसमेंट के पिछले सभी वर्षों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। इस साल, यह देखा गया कि प्लेसमेंट ऑफ़र की संख्या में 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई। लगभग, संस्थान के प्लेसमेंट सेवाओं का लाभ उठाने वाले 85.6 फीसद स्नातक और स्नातकोत्तर छात्रों को रखा गया है। बाकी छात्रों ने उच्च अध्ययन, अनुसंधान, सिविल सेवा परीक्षा, स्टार्ट-अप जैसे अन्य विकल्पों की खोज की या अपने स्वयं के संपर्कों और प्रयासों के माध्यम से नौकरी प्राप्त की।

सबसे अधिक 31 फीसद कोर सेक्टर में जॉब ऑफर हुई

  • 23 फीसद आईटी सेक्टर में
  • 14 फीसद अन्य क्षेत्र में
  • 9 फीसद कंसल्टिंग
  • 7 फीसद मैनेजमेंट
  • 3 फीसद एनालॉटिक्स
  • 3 फीसद फाइनांस

आईआईटी दिल्ली में 430 से अधिक संगठनों ने शैक्षणिक वर्ष 2019-2020 में 600 से अधिक छात्रों को नौकरी दी। कोविड-19 से उपजी स्थिति के कारण प्लेसमेंट के दूसरे चरण में लगभग 100 छात्रों को नौकरी प्रदान की गई।

loading...
Loading...