CBI का अवैध खनन घोटाला मामले में गायत्री प्रसाद प्रजापति के आवास पर छापा

अवैध खनन घोटालाअवैध खनन घोटाला
Loading...

अमेठी। सपा सरकार में खनन मंत्री और जेल में सजा काट रहे गायत्री प्रसाद प्रजापति के आवास पर सीबीआई ने बुधवार को छापेमारी की है।CBI उत्तर प्रदेश में अवैध खनन मामले में यूपी और दिल्ली में 22 जगह छापेमारी कर रही है। यूपी के अमेठी में पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजाप्रति के तीन ठिकानों पर भी छापेमारी चल रही है।

ये भी पढ़ें:-कोयंबटूर में सात जगहों पर एनआईए के छापेमारी 

सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के घर में भी सीबीआई ने छापा मारा है। अवैध खनन घोटाले में फंसे 11खनन माफियाओं के घर में छापा मारा जा रहा है एमएलसी के पैतृक गांव इमलिया में जांच हो रही है। खनन माफिया राकेश दीक्षित,जगदीश राजपूत, दिनेश मिश्रा के घर छापेमारी हो रही है। बता दें कि 62 अवैध पट्टा देकर सपा शासन में 900 करोड़ का खनन घोटाला हुआ था । इसी तरह नोएडा और नयी दिल्ली में भी अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की कार्रवाई चल रही है। हमीरपुर में खनन माफिया राकेश दीक्षित, जगदीश राजपूत और दिनेश मिश्रा के घर भी छापा पड़ा है। दरअसल सीबीआई सपा शासनकाल में बांटे गए 62 अवैध खनन पट्टे की जांच कर रही है।

2012 से 2016 के बीच हमीरपुर में 62 मोरंग के पट्टे आवंटित किए गए

बता दें 2012 से 2016 के बीच हमीरपुर में 62 मोरंग के पट्टे आवंटित किए गए। आरोप है कि सभी पट्टों को देने में नियमों को दरकिनार रखकर नेताओं और मंत्रियों के करीबियों को पट्टा दिया गया। साल के शुरुआत में इस मामले को लेकर सीबीआई ने तत्कालीन डीएम बी चन्द्रकला के लखनऊ स्थित फ्लैट पर भी छापेमारी की थी। इस मामले में सीबीआई ने सीबीआई ने चंद्रकला समेत हमीरपुर के तत्कालीन खनन अधिकारी मोइनुद्दीन, खनन क्लर्क रामआसरे प्रजापति, हमीरपुर से सपा एमएलसी रमेश मिश्रा, रमेश के भाई दिनेश मिश्रा के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की है। वहीं एफआईआर में हमीरपुर के अंबिका तिवारी, संजय दीक्षित, सत्यदेव दीक्षित का भी नाम है।

10 हजार करोड़ रुपए का वारा-न्यारा होने का अनुमान

हमीरपुर के जनहित याचिकाकर्ता अधिवक्ता विजय द्विवेदी के अनुसार अवैध खनन के धंधे में 10 हजार करोड़ रुपए का वार न्यारा होने का अनुमान है। बसपा व सपा शासनकाल में मोरंग सिंडीकेट का खेल शुरू हुआ जो 10 सालों में 10 गुना तक बढ़ा। अवैध वसूली की शुरुआत 1100 रुपए प्रति ट्रक से शुरू होकर 11 हजार रुपए तक पहुंच गई है। अधिवक्ता विजय का दावा है कि सिंडीकेट के नाम पर होने वाली इस वसूली का 70 फ़ीसदी धन प्रदेशस्तरीय नेताओं को जाता था। जबकि 30 फ़ीसदी अवैध वसूली करने वाले अपने पास रखते थे। उन्होंने कहा कि सीबीआई के पास ऐसे नामों की फेहरिस्त है। सिंडीकेट की लिस्ट में सपा के सहारनपुर से एमएलसी इक़बाल के अलावा, बसपा नेता रजा खान, सीरज ध्वज सिंह व बीजेपी विधायक प्रकाश द्विवेदी, विजय गुप्ता, शराब कारोबारी रहे पोंटि चड्ढा, सपा एमएलसी रमेश मिश्रा व सपा के पूर्व विधायक दीपनारायण यादव के नाम चर्चा में आ चुके हैं।

Loading...
loading...

You may also like

One Nation One Election : पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, ममता ने किया किनारा

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री