अधूरी नींद इन बीमारियों का बन सकती है कारण, जानें कितने घंटे सोना है जरूरी

- in Main Slider, फैशन/शैली, विचार
अधूरी नींद

डेस्क। भागदौड़ भरी जिंदगी, तनाव और देर रात तक मोबाइल इस्तेमाल करते रहने के कारण आजकल लोग अपनी नींद से समझौता कर लेते हैं। इससे ना सिर्फ आप दिनभर थके-थके रहते हैं बल्कि आधी-अधूरी नींद बीमारियों का खतरा भी बढ़ाती है। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि पूरी नींद ना लेने से आपको क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं।

1- वैसे तो उम्र के हिसाब से हर किसी के लिए नींद की जरूरी अलग-अलग होती है लेकिन एक्सपर्ट के मुताबिक, हर व्यक्ति को रोजाना कम से कम 8-9 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। वहीं हाल ही में शोध के मुताबिक, महिलाओं को पुरूषों के मुकाबले 1 घंटे एक्स्ट्रा नींद की जरूरत होती है।

2- सिर्फ आपके फोन नहीं बल्कि दिमाग को भी चार्ज करने की जरूरत होती है। अच्छी नींद नए तंत्रिका मार्गों को बनाकर मस्तिष्क को अगले दिन के लिए तैयार करने में मदद करती है। इससे ना सिर्फ आपका दिमाग एनर्जेटिक रहता है बल्कि आपको नई जानकारी को सीखने में भी मदद मिलती है। मगर नींद पूरी नहीं होने पर दिमाग तरोताजा नहीं हो पाता, जिसके चलते कई मानसिक समस्याएं, कमजोर याददाश्त, सुस्ती और थकावट जैसी परेशानियां हो सकती हैं।

3- सोत समय शरीर में महत्वपूर्ण हार्मोन स्रावित होते हैं, जो भूख, मेटॉबालिज्म और ऊर्जा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं लेकिन पूरी नींद ना लेने से हार्मोनल का बैलेंस बिगड़ जाता है। इससे पेट दर्द, मोटापा और थकावट जैसी समस्याएं होने लगती है।

4– अच्छी नींद नहीं मिलने पर शुगर से भरपूर और जंक फूड खाने की इच्छा बढ़ जाती है. इससे हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है।

5- जब हम सोते हैं तो यह वक्त हमारे शरीर की अंदरूनी मरम्मत और सफाई का होता है लेकिन नींद पूरी न होने की वजह से शरीर के विषाक्त पदार्थ साफ नहीं हो पाते और जिसकी वजह से हाई ब्लड प्रेशर की आशंका बढ़ जाती है। इससे हार्ट अटैक होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

 

Loading...
loading...

You may also like

चुनाव परिणाम से पहले सेबी ने शेयर बाजारों की निगरानी व्यवस्था चाक-चौबंद की

🔊 Listen This News नयी दिल्ली।  नियामक सेबी