भारत: ऑस्ट्रेलिया के म्यूजियम से बरामद की ‘नटराज’ की मूर्ति

- in अंतर्राष्ट्रीय

नई दिल्ली: कैनबरा दशकों पहले भारत के तमिलनाडु राज्य से चोरी हुई एक पुरातन व कीमती मूर्ति को लेकर आखिर पता चल गया कि वो मूर्ति कहा है। ये मूर्ति ऑस्ट्रेलिया के म्यूजियम में पाई गई है । 500 साल पुरानी नटराज (भगवान शिव) की मूर्ति को लेकर आर्ट गैलरी ने इस बात की पुष्टि की है कि भारत की ये धरोहर म्यूजियम में सुरक्षित रखी है।

ये भी पढ़ें:सुषमा स्वराज ने रूस के उप प्रधानमंत्री से की मुलाक़ात,भारत-रूस संबंधों पर हुई चर्चा 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नटराज की इस मूर्ति को जल्द भारत वापस भेजा जा सकता है। ऑस्ट्रेलियन चौनल एबीसी के मुताबिक-नटराज की यह मूर्ति 16वीं शताब्दी की थी, जो 1970 के दशक में तमिलनाडु के नेल्लई स्थित एक मंदिर से गायब हो गई थी ।
रिपोर्ट के मुताबिक- नेल्लई के मंदिर से नटराज समेत चार मूर्तियां चुराई गई थीं। चोरों ने मंदिर का ताला तोड़कर वारदात को अंजाम दिया। 1982 तक मूर्तियों को गायब माना गया। पुलिस किसी भी संदिग्ध को पकड़ने में नाकाम रही।

चोरी का 2 साल पहले पता लगा:

एडीलेड स्थित आर्ट गैलरी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया (एजीएसए) का कहना है, “हम मूर्ति के बारे में शोध कर रहे थे। इसी दौरान एशियन आर्ट क्यूरेटर ने सितंबर 2016 में बताया कि नटराज की मूर्ति चुराई गई थी। भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई अफसरों के बीच बात हो चुकी है। हमने दस्तावेज सौंप दिए हैं। 30 दिन में हम मूर्ति को भारत को वापस कर सकते हैं।” मंदिर निर्माण कला के जानकार और द आइडल थीफ किताब के लेखक कुमार ने बताया- एजीएसए द्वारा दी गई जानकारी सही है। 2016 में हमारे आर्काइव फोटो से मूर्ति के बारे में जानकारी मिली। कुमार कहते हैं- चौंकाने वाली बात यह है कि दो साल पहले चोरी का पता लगने के बाद ऑस्ट्रेलिया के अफसर चुप रहे। क्या यही उनकी नैतिकता है।

loading...
Loading...

You may also like

CNN पत्रकार की बड़ी जीत, ट्रम्प ने जारी किये प्रवेश पत्र को बहाल करने के निर्देश

अमेरिका में पिछले कुछ दिनों से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड