भारत का पाकिस्तान को दो टूक जवाब, पहले मुंबई-पठानकोट आतंकियों पर उठाए क़दम

भारत का पाकिस्तान को दो टूक जवाब, पहले मुंबई-पठानकोट आतंकियों पर उठाए क़दम
Loading...

नई दिल्ली। हाल ही में भारत ने पाकिस्तान की तरफ से आए बातचीत के प्रस्ताव को ‘अगंभीर’ करार देते हुए आज पाकिस्तान से तीन सवाल पूछे हैं और कहा है कि अगर वह इस बातचीत को लेकर गंभीर हैं तो पाक मुंबई और पठानकोट हमलों के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ ठोस कदम उठाएं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने यहां नियमित ब्रीफिंग में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर करारी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने इस बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि पाकिस्तानी नेतृत्व अपने आर्थिक संकट से देश का ध्यान भटकाने के लिए इस प्रकार की बेतुकी और हल्की बयानबाजी का सहारा ले रहा है। पाक के ऐसी बातों से तो ज़रा भी नहीं लगता है पाकिस्तान हक़ीक़त में बातचीत करना चाहता है। रविश कुमार ने कहा कि मुझे समझ में नहीं आता कि इमरान खान का यह बयान कहां से आया है।

ये भी पढ़े:- अगर लालू यादव जेल से बाहर नहीं आए तो क्या होगा असर 

उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के आम चुनावों में इमरान खान की जीत पर उन्हें फोन करके बधाई दी थी। जब उन्होंने प्रधानमंत्री पद संभाला तो मोदी ने और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इमरान खान के पाकिस्तानी विदेश मंत्री को बधाई का पत्र लिखा था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के बयानों पर वह उससे कुछ सवाल पूछना चाहते हैं।

जब-जब पाकिस्तान कहता है कि वह भारत से बातचीत के लिए तैयार है, तब-तब उसके मंत्री प्रतिबंधित संगठनों के घोषित आतंकवादियों के साथ मंच क्यों साझा करते हैं। उन्होंने उदाहरण दिया कि दिसंबर में खान के ऐसे ही बयान के वक्त उनकी सरकार में अंतरधर्म मामलों के मंत्री एवं आंतरिक सुरक्षा राज्य मंत्री लश्करे तैयबा के सरगना हाफिज सईद के साथ एक ही मंच पर थे और भारत के बारे में जहरीले बयान दिये थे।

ये भी पढ़े:- पी. चिदंबरम को एक फरवरी तक राहत, अभी नहीं होगी गिरफ्तारी 

पाकिस्तान के कबजे वाले कश्मीर में भी तहरीके इंसाफ पार्टी के नेता हाफिज सईद के साथ एक मंच पर दिखाई दिये हैं। प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार अगर बातचीत के लिए सचमुच गंभीर है तो मुंबई एवं पठानकोट के आतंकवादी हमलों के जिम्मेदार आतंकवादियों पर कोई सख्त कार्रवाई क्यों नहीं करती? उन्होंने यह  भी कहा कि अगर पाकिस्तान वाकई में भारत के साथ बात करना चाहता है तो अपनी जमीन से आतंकवादी गतिविधियों को क्यों इजाजत देता है जो न केवल भारत बल्कि अन्य देशों में भी दहशतगर्दी करते फिरते हैं।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सरकार आतंकवादी संगठनों को मुख्य धारा में लाने का प्रयास कर रही है और अपने देश की आर्थिक बदहाली से जनता का ध्यान हटाने के लिए दूसरे देशों पर बयानबाजी कर रही है। जिसमें कोई गंभीरता नहीं है। कुमार ने कहा कि भारत में अल्पसंख्यकों को लेकर भी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री का बयान हाल ही में आया था। भारत का मानना है कि पाकिस्तान दुनिया का आखिरी देश हो सकता है जिसे भारत की सांस्कृतिक एवं धार्मिक बहुलता एवं एकता के बारे में टिप्पणी करने का अधिकार हो, जो की अपने अपने आप मे एक अजीब बात है।

Loading...
loading...

You may also like

Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण से भारत में पड़ेगा यह प्रभाव

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। 2019