इंदिरा नहर में सिविल इंजीनियरिंग तृतीय वर्ष के दो दोस्तों की डूब कर मौत

Indira Canal in Gosainganj

लखनऊ। गोसाईंगंज में रविवार को ड्रीम वैली के पास इंदिरा नहर में नहाने उतरे दो दोस्त नहर में डूब गए। उनकी चीख पुकार सुनकर जुटे ग्रामीणों ने पानी में जाल डालकर किसी तरह एक युवक को तो बचा लिया। लेकिन, दूसरा युवक तेज बहाव के चलते जाल में नहीं फंस सका। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस गोताखोरों व ग्रामीणों की मदद से उसकी तलाश करवा रही है। एसओ बलवंत शाही ने बताया कि बीबीडी विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियरिंग तृतीय वर्ष के छात्र उज्जवल सिंह व वैभव सिंह अपने साथी अजीत सिंह के साथ पिकनिक मनाने के लिए रविवार दोपहर ड्रीम वैली आए थे।

पढे: सैनिक विहार कालोनी में गुर्गों ने पीडब्ल्यूडी के जेई व उनकी पत्नी पर कहर बरपाया

उज्ज्वल ने बताया कि जब वह लोग पार्क घूमने के लिए पहुंचे तो इंट्री बंद हो चुकी थी। इसके बाद तीनों दोस्त वहां से वापस आकर इंदिरा नहर किनारे पानी में पैर लटका कर बैठ गए। इस दौरान उज्ज्वल ने वैभव को चाय लाने के लिए भेज दिया। ग्रामीणों के मुताबिक उज्ज्वल और अजीत का संतुलन बिगड़ गया और दोनों नहर में गिर गए। दोनों ने मदद के लिए शोर मचाया। चीख पुकार सुन कर वहां मौजूद ग्रामीणों ने नहर में जाल डालकर उज्ज्वल को बाहर निकाल लिया। लेकिन, तब तक अजीत नहर के तेज बहाव में दूर निकल चुका था।

उज्ज्वल ने पुलिस को बताया कि अजीत एक निजी कंपनी मे जॉब करता था। वह तैरना नहीं जानता था। बांदा के रहने वाले हैं तीनों इंस्पेक्टर के मुताबिक उज्ज्वल सिंह बांदा के कटरा का रहने वाला है जबकि वैभव बांदा की डीएम कालोनी में रहता है। नहर में डूबा अजीत सिंह बांदा के बंगाली टोला में रहता है। वैभव और उज्ज्वल कॉलेज के हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करते हैं। एसओ बलवंत शाही का कहना है कि अजीत की तलाश के लिए नहर में जाल लगाया गया है साथ ही गोताखोर भी उसकी तलाश कर रहे है। उसके परिजनों को हादसे की सूचना दे दी गई है।

loading...

You may also like

दलित समर्थक छवि से दूर हो रही मायावती? SC/ST पदोन्नत पर दिया ऐसा बयान

लखनऊ। बुधवार को अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति