निरंतर चलायमान रहने वाले का ही चलता है भाग्य: राज्यपाल

राज्यपाल
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। राज्यपाल राम नाईक ने  कहा कि जो रुक जाता है उसका भाग्य भी रुक जाता है और जो निरंतर चलायमान रहता है उसका भाग्य भी चलता रहता है।  महिला दिवस के अवसर पर बोलते हुए उन्होंने बताया कि भारत देश की राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री के पद पर महिलाए आसीन हुई है और अब देश कि रक्षा मंत्री भी एक महिला ही है।  उन्होंने देश के वर्तमान लिंग अनुपात का ज़िक्र करते हुए महिलाओं  के कम अनुपात पर चिंता भी व्यक्त की।

ये भी पढ़ें :-परिषदीय विद्यालयों की परीक्षा 15 मार्च से, 31 मार्च को आएगा परीक्षाफल 

बुजुर्गों का अनुभव, युवाओं की ताकत, आओ बनाये मिलकर नया भारत

यह बात श्री जय नारायण महाविद्यालय में गुरुवार को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर राम नाईक ने कही। इस अवसर पर ‘बुजुर्गो का अनुभव, युवाओं की ताकत, आओ बनाये मिलकर नया भारत’ विषयक संगोष्ठी एवं मातृशक्ति तथा तेज़स्विनी सम्मान समारोह का आयोजन गाइड समाज कल्याण संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में हुआ।  मुख्य अतिथि ने  प्रेमा देवी को मातृशक्ति सम्मान तथा नेहा रस्तोगी, काज़ल सिंह एवं मेधा बलेचा को तेजस्विनी सम्मान से नवाज़ते हुए शाल एवं माला पहनाकर सम्मानित किया।  महाविद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष वीएन मिश्र , मंत्री प्रबंधक जीसी शुक्ल, प्राचार्य प्रो.  एसडी  शर्मा, महिला प्रकोष्ठ की संयोजक, डॉ.  चितवन वर्मा तथा प्रवक्ता विजय राज श्रीवास्तव को संस्था एवं समाज के प्रति उनके उल्लेखनीय प्रयासों के लिए सम्मानित किया।

ये भी पढ़ें :-यूपी बोर्ड: 31 काॅलेजों की मान्यता पर लटकी तलवार, डीआईओएस ने भेजा नोटिस

बुजुर्गों  का  आदर करने से ज्यादा मनुष्य के जीवन में कुछ भी श्रेष्ठ नहीं

राज्यपाल ने गाइड संस्था के यूथ ब्रिगेड के शाश्वत सुभाष, सचिन उपाध्याय, सुलेखा, प्रगति, प्रियांश, सुशांत एवं पीयूष को उत्कृष्ट स्वयं सेवक सम्मान से भी नवाज़ा।  कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि राकेश कुमार मित्तल, संस्थापक कबीर शांति मिशन, ने कहा कि बुजुर्गो का  आदर करने से ज्यादा मनुष्य के जीवन में कुछ भी श्रेष्ठ नहीं है।

विशिष्ट अतिथि, वीएन  मिश्र, अध्यक्ष ने कहा कि महाविद्यालय में सह शिक्षा का निर्णय उनके जीवन का सबसे अच्छा निर्णय है। पूर्व लोकायुक्त, न्यायमूर्ति सुधीर चन्द्र वर्मा ने बताया कि  विदेशों में बुजुर्ग व्यक्तियों को एक विशेष सम्मान और आदर से देखा जाता है। न्यायमूर्ति कमलेश्वर नाथ ने कहा बुजुर्गों के आशीर्वाद एवं श्राप के दैवीय महत्व को अनदेखा नहीं करना चाहिए।  गाइड संस्था की संस्थापक व संयोजिका डॉ.  इंदु सुभाष ने संगोष्ठी की थीम से सभी को अवगत कराया।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *