सच बोलने से शांत रहता है मन और परेशानियां भी दूर होने लगती है

Loading...
 महाभारत के वनपर्व में बताया गया है कि सत्य बोलने वाले मनुष्य को क्या-क्या फायदे मिलते हैं। इसके अलावा महाभारत में वो सभी बातें भी बताई गई हैं जो उच्च स्तर का जीवन जीने में मदद करती हैं। महाभारत में वेदव्यास जी ने वनपर्व के अरण्यक उपपर्व में बताया है कि सत्य बोलने से मनुष्य के जीवन में परेशानियां और क्लेश दूर होने लगते हैं। सत्य बोलने से भगवान भी प्रसन्न होते हैं।

  • महाभारत का श्लोक

सत्यवादी लभेतायुरनायासमथार्जवम्।
अक्रोधनोऽनसूयश्च निर्वृत्तिं लभते पराम्॥ वन.२५९/२२॥

इस श्लोक के अनुसार सत्य बोलने से हर इंसान को 4 महत्वपूर्ण लाभ जरूर मिलते हैं

1. लम्बी आयु

  • जो मनुष्य हमेशा सच बोलता है वह औरों से ज्यादा समय तक जीता है। ऐसे मनुष्य को न तो किसी बात का भय होता है न ही लालच। उस पर हमेशा भगवान की कृपा बनी रहती है और वह उसे लंबी उम्र मिलती है।

2. सुखी जीवन

  • झूठ बोलने की आदत, बात-बात पर छल-कपट करने की आदत जीवन में दुःखों का कारण बनती है। जो मनुष्य हमेशा ही सच का साथ देता है, इसका जीवन सुख से भरा होता है। ऐसे मनुष्य के जीवन में परेशानियां और क्लेश के लिए कोई जगह नहीं होती।

3. सरलता

  • सरल व्यक्ति अपनी सारी परेशानियों का हल बिना कोई छल किए आसानी से पा लेता है। ऐसा मनुष्य जीवन में सुख के साथ-साथ मान-सम्मान भी पाता है। इसलिए हर किसी को सच बोलने की आदत को अपनाना चाहिए।

4. सत्य बोलने से मन रहता है शांत

  • इस श्लोक की दूसरी लाइन में कहा गया है कि जो व्यक्ति किसी पर गुस्सा नहीं करता वह किस्मत वाला होता है। क्योंकि क्रोध एक जाल है, जिसमें फंसने के बाद मनुष्य को अपने-पराए, अच्छे-बुरे किसी का ख्याल नहीं रहता। इसलिए जो व्यक्ति हमेशा सत्य बोलता है उसे बात-बात पर गुस्सा नहीं आता एवं अपने गुस्से पर भी नियंत्रण कर लेता है। ऐसे व्यक्ति के जीवन में हमेशा शांति बनी रहती है।
Loading...
loading...

You may also like

17 नवंबर 2019 का राशिफल : इन राशियों में कारोबार की बढ़ोतरी के हैं शुभ संकेत

Loading... 🔊 Listen This News जन्मकुंडली का इंसान