तत्काल टिकट पाना होगा अब आसान, भारतीय रेलवे ने लॉन्च किया नया मोबाईल एप

भारतीय रेलवे

 

नई दिल्ली।  इस साल भारतीय रेलवे अपने यात्रियों को खुशियों भरा तोहफा दिया है, जिससे अब यात्रियों को अब लम्बी–लम्बी लाइनों में टिकट के लिए पसीना बहना नहीं पड़ेगा । टिकट बुकिंग सुविधा में आसानी लाते हुए IRCTC का एक नया एंड्रॉयड बेस्ड एप जारी किया है। रेलवे ने अनारक्षित टिकटों की बुकिंग और इन्हें रद्द करने सहित अन्य सुविधाओं के साथ  मोबाइल एप की शुरुआत की है । रेल मंत्रालय ने बताया कि एप में सावधिक (सीजन) और प्लेटफॉर्म टिकटों के नवीनीकरण, आर-वॉलेट की बकाया राशि की जांच और लोड करने और यूजर प्रोफाइल मैनेजमेंट और बुकिंग हिस्ट्री की भी सुविधा भी दी जा रही है।

प्ले स्टोर से निशुल्क डाउनलोड होगा एप

रेल सूचना प्रणाली केंद्र (सीआरआईएस) ने मोबाइल आधारित एप्लिकेशन ‘अटसनमोबाइल’ विकसित किया है। यूजर इस एप को गूगल प्ले स्टोर या विन्डोज स्टोर से निःशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं। रेल मंत्रालय ने ये भी कहा है सबसे पहले यात्री अपना मोबाइल नंबर, नाम, शहर, रेल की डिफ़ॉल्ट बुकिंग, श्रेणी, टिकट का प्रकार, यात्रियों की संख्या और बार-बार यात्रा करने के मार्गों का विवरण देकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

यह भी पढ़े :रोजा इफ्तार पार्टी: शत्रुघ्न से पूछा RJD से लेंगे टिकट? इस पर तेजप्रताप के जवाब ने मचाया हडकंप 

यात्रियों कि सुविधा को ध्यान में रख बनाया गया एप

इंडियन रेलवे की इस नई वेबसाइट को उपभोक्ताओं के लिए और ज्यादा यूजर फ्रेंडली बनाया जाएगा। इसमें बहुत ज्यादा विज्ञापन की भी दिक्कत नहीं होगी, इसके साथ ही इसमें टिकट बुक करते वक्त टाइम आउट होने की भी असुविधा नहीं होगी। रेलवे इस नए एप के जरिए उपभोक्ताओं के लिए सुविधा के साथ-साथ खुद के बिजनेस में बढ़ने और रेल यात्रा कि सुविधा में बड़े बदलाव के रूप में देख रहा है।

यह भी पढ़े :जम्मू- कश्मीर: बांदीपोरा में मुठभेड़, 2 आतंकियों को मार गिराया, 1 जवान शहीद

बहुत जल्द फैसिलिटी सुविधा देगा रेलवे

इस नए एप में यात्रियों को अपने कन्फर्म टिकट वहीं दिख जाएगा। साथ ही इसकी मदद से तत्काल टिकट का गलत फायदा उठाने वालों पर भी लगाम कसेगी । भारतीय रेलवे बहुत जल्द फैसिलिटी सुविधा भी लाने की तैयारी कर रही है ।जिसके तहत लोगों को ट्रेन के आने और खुलने का रियल टाइ्म मैसेज भी भेजा जाए। इसके अलावा ट्रेन के देर होने की स्थिति में भी सफर कर रहे यात्रियों के फोन पर एसएमएस एलर्ट भेजा जाएगा।

लोकेशन को ट्रैक करने में होगा कार्यगर

बताया यह जा रहा हैं कि इस फीचर्स को जोड़ने के लिए  रेलवे इसरो की भी मदद आवश्यकता पड़ेगी।  जिससे कि सेटेलाइट की मदद से ट्रेन की रियल टाइम रिपोर्ट यात्रियों को दी जा पायेगी। खबरों के अनुसार एक अधिकारी ने बताया कि, “इससे कोई भी व्यक्ति ट्रेन के लोकेशन को ट्रैक करने में सक्षम होगा।”उन्होंने कहा कि अभी लोकल स्टेशनों पर लोग गाड़ियों के वहां पहुंचने और निकलने का रिकॉर्ड भरते हैं जो कि ट्रेन के लेट होने की स्थिति में किसी भी तरह के दंड से बचने के लिए थोड़ा बदलकर भर दिया जाता है। एक रेलवे अधिकारी ने ये भी बताया कि आईआरसीटीसी के मुकाबले अन्य दूसरे ट्रेवल वेबसाइटट पर नेविगेट करना आसान होता है। इसके अलावा इंडियन रेलवे के सेंट्रल इंफॉर्मेशन सिस्टम, आईआरसीटीसी और रेलवे के आईटी विभाग को भी एक साथ जोड़ने की तैयारी है।

आर-वॉलेट लिए नहीं देना होगा अतिरिक्त शुल्क

पंजीकरण कराने पर यात्री का जीरो बैलेंस का रेल वॉलेट (आर-वॉलेट) स्वत: ही बन जाएगा। आर-वॉलेट बनाने के लिए कोई अतिरिक्त शुल्क देने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। आर-वॉलेट को किसी भी यूटीएस काउंटर पर या वेबसाइट पर उपलब्ध विकल्प के माध्यम से रीचार्ज किया जा सकता है। अग्रिम टिकट बुकिंग की अनुमति नहीं है। यानी, हमेशा वर्तमान तिथि में ही यात्रा की जाएगी। भारतीय रेलवे के मुताबिक, टिकट का प्रिंट लिए बगैर भी यात्री यात्रा कर सकेगें। टिकट जांच कर्मी द्वारा टिकट मांगने पर यात्री एप में ‘टिकट दिखाएं’ विकल्प का उपयोग कर टिकट दिखायेंगे।

मुख्य बाते :

1 -‘अटसनमोबाइल’ एप्लिकेशन अनारक्षित टिकटों की बुकिंग और रद्द करने, सावधिक और प्लेटफॉर्म टिकटों के नवीनीकरण, आर-वॉलेट की बकाया राशि की जांच और लोड करने में सक्षम है। यह उपयोगकर्ता के वि‍वरण और बुकिंग की जानकारी कायम रखने में सहायक है।

2 – बहुत आसान और नि:शुल्‍क ‘अटसनमोबाइल’ एप्लिकेशन एंड्रॉइड और विंडोज स्मार्ट फोन पर उपलब्ध है। उपयोगकर्ता इस ऐप को गूगल प्‍ले स्‍टोर या विन्‍डोज स्‍टोर से निःशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं।

3 – सबसे पहले यात्री अपना मोबाइल नंबर, नाम, शहर, रेल की डिफ़ॉल्ट बुकिंग, श्रेणी, टिकट का प्रकार, यात्रियों की संख्या और बार-बार यात्रा करने के मार्गों का विवरण देकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

4 – पंजीकरण कराने पर यात्री का जीरो बैलेंस का रेल वॉलेट (आर-वॉलेट) स्‍वत: ही बन जाएगा। आर-वॉलेट बनाने के लिए कोई अतिरिक्त शुल्‍क नहीं देना होगा।

5 – आर-वॉलेट को किसी भी यूटीएस काउंटर पर या वेबसाइट https://www।utsonmobile।indianrail।gov।in पर उपलब्ध विकल्प के माध्यम से रिचार्ज किया जा सकता है।

6 – मोबाइल का इंटरनेट कनेक्शन काम नहीं करने की स्थिति में टिकट बुकिंग नहीं हो सकेगी।

7 – अग्रिम टिकट बुकिंग की अनुमति नहीं है अर्थात् हमेशा वर्तमान तिथि में ही यात्रा की जायेगी।

8 – पेपरलेस टिकट: यात्री टिकट का प्रिंट लिए बगैर (हार्डकॉपी) भी यात्रा कर सकते हैं। टिकट जांच कर्मी द्वारा टिकट मांगने पर यात्री ऐप में ‘टिकट दिखाएं’ विकल्प का उपयोग कर टिकट दिखायेंगे।

9 – पेपर टिकट: यात्री इस मोबाइल ऐप के माध्यम से टिकट बुक कर सकता है। टिकट बुक करने पर, यात्री को अन्य टिकट विवरणों के साथ बुकिंग आईडी मिल जाएगी। बुकिंग विवरण बुकिंग हिस्‍ट्री में भी उपलब्ध होंगे। बुकिंग आईडी एसएमएस के माध्यम से भी बताया जाएगा।

 

 

loading...
Loading...

You may also like

तीसरी बार गहलोत ने ली राजस्थान सीएम पद की शपथ, उपमुख्यमंत्री बने पायलट

भोपाल। जहां एक ओर 1984 के सिख दंगों