जन्माष्टमी पर शिवपाल की वापसी, मुलायम से हुई ‘राजनीतिक मक्खन’ की डील

जन्माष्टमीजन्माष्टमी

लखनऊ। सेक्युलर मोर्चा विवाद के बाद दिल्ली से शिवपाल यादव रविवार को इटावा पहुंचे। लेकिन जैसी उम्मीद जतायी जा रही थी। उनका यहां पर सैफई में भव्य स्वागत किया जाएगा। ऐसा कुछ नहीं देखने को नहीं मिला बल्कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के नाम से कोई बैनर-होर्डिंग भी नहीं लगाए गए हैं। सूत्रों की मानें तो शिवपाल ने मुलायम सिंह की बात मान ली है और सोमवार को जन्माष्टमी पर सैफई में परिवार के बीच पार्टी में वापसी पर मुहर लगा सकते हैं।

जन्माष्टमी का त्यौहार मनाने के लिए एक जुट होगा यादव परिवार

सूत्रों की माने तो सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव भी आज दोपहर सैफई पहुंच सकते हैं। वहीं प्रोफेसर रामगोपाल यादव और मुलायम के बड़े भाई राजपाल यादव पहले से ही सैफई में मौजूद हैं। यहां पर यादव परिवार सैफई में जन्माष्टमी मनाएगा।

पूर्व सीएम अखिलेश यादव सैफई में जन्माष्टमी के उत्सव का हिस्सा नहीं होंगे। सूत्रों का कहना है कि आज़म खान और संजय सेठ शिवपाल और अखिलेश यादव के बीच सुलह कराने में जुटे हुए थे।

पढ़ें:- चित्रकूट: गंगा-कावेरी एक्सप्रेस हाईजैक, 6 बोगियों के यात्रियों से लूटपाट 

मुलायम से शिवपाल की हुई‘राजनीतिक मक्खन’की डील

सूत्रों की माने तो शनिवार की रात मुलायम सिंह की कुछ बात शिवपाल यादव से हुई। जिसके के बाद शिवपाल के तेवर थोड़े नरम दिखाई पड़ रहे हैं। वहीं मीडिया से भी बातचीत के दौरान अखिलेश पर सीधे हमला करने से बचते हुए दिखाई दिए। वहीं इटावा, सैफई में रविवार को होने वाले मोर्चे के भव्य स्वागत समारोह को रद्द कर दिया गया। दूसरे शहरों में भी मोर्चे के बैनर-होर्डिंग नहीं दिखाई दे रहे हैं।

सूत्रों की मानें तो मुलायम और शिवपाल के बीच उनको राष्ट्रीय महासचिव बनाए जाने और उन्हें या उनके बेटे किसी भी एक को 2019 में लोकसभा का टिकट देने की डील हुई है। ये टिकट आज़मगढ़ लोकसभा क्षेत्र की भी दी जा सकती है। हालांकि शिवपाल यादव को नेता प्रतिपक्ष बनाने की भी चर्चा चल रही है।

Loading...
loading...

You may also like

अखिलेश से मिले जयंत, बोले भाजपा के तानाशाही रवैया के खिलाफ विपक्ष एकजुट

लखनऊ । राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के महासचिव और