RSS की सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस ने की तारीफ

RSSRSS

नई दिल्ली। एकतरफ जहाँ कांग्रेस हमेशा से देश की राजनीति में आरएसएस की भूमिका को लेकर बीजेपी पर निशाना साधती रही है। साथ ही हाल ही में पुणे में भड़की जातीय हिंसा के लिए राहुल समेत विपक्ष के बड़े नेताओं आरएसएस ( RSS )को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं सुप्रीम कोर्ट पूर्व जस्टिस के.टी.थॉमस ने आरएसएस ( RSS ) को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि संविधान, आर्मी, लोकतंत्र के बाद अगर कोई भारतीयों की रक्षा करता है तो वह है संघ (आरएसएस) है।

ये भी पढ़े:-तीन तलाक की पीड़िता ने कहा मर्दों को मिले सख्त से सख्त सजा 

आरएसएस ( RSS ) स्वयंसेवकों में राष्ट्र की रक्षा के प्रति भावना को जागृत करता

  • पूर्व जस्टिस के.टी.थॉमस ने आरएसएस के अनुशासनशीलता की तारीफ की।
  • साथ ही उन्होंने स्वयंसेवकों को शारीरिक प्रक्षिक्षण दिए जाने के लिए संगठन की तारीफ की।
  • थॉमस ने कहा कि संघ अपने स्‍वयंसेवकों में राष्ट्र की रक्षा करने हेतु अनुशासन भरता है।
  • उदाहरन देते हुए उन्होंने कहा कि सांपों में विष हमले का सामना करने के लिए हथियार के तौर पर होता है।
  • ठीक इसी प्रकार, मानव की शक्ति किसी पर हमला करने के लिए नहीं बनी है।
  • उन्होंने आगे कहा कि शारीरिक शक्ति का मतलब हमलों से (खुद को) बचाने के लिए है।
  • ऐसा बताने और विश्‍वास करने के लिए मैं आरएसएस की तारीफ करता हूं।
  • उनका मानना है कि आरएसएस का शारीरिक प्रशिक्षण किसी हमले के समय देश और समाज की रक्षा के लिए है।

आरएसएस ( RSS ) को पुणे हिंसा के लिए ठहराया गया जिम्मेदार

  • पुणे में भड़की जातीय हिंसा का मामला सदन में खूब गूंजा।
  • इस दौरान सदन के बाहर और अन्दर विपक्ष ने इसके लिए संघ को जिम्मेदार ठहराया।
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस हिंसा के लिए संघ पर निशाना साधा था।
  • जिसके बाद आरएसएस ने कांग्रेस पर पलटवार किया था।
  • संघ की तरफ से कहा गया कि कांग्रेस की ये आदत रही है संघ देश के हित के लिए काम करता है।
loading...
Loading...

You may also like

BJP महासचिव का बयान, राम मंदिर पर लाए अध्यादेश, यह चुनावी नहीं राष्ट्रीय अस्मिता का मुद्दा

नई दिल्ली। भाजपा संसदीय दल की बैठक में