कर्नाटक विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी, बैठक में नहीं पहुंचे 3 विधायक

कर्नाटक विधानसभा चुनावकर्नाटक विधानसभा चुनाव

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत न मिल पाने के कारण कोई भी पार्टी सरकार नहीं बना पायी है। वहीं कांग्रेस और जेडीएस संयुक्त रूप से सरकार बनाने का दावा कर रही है। दूसरी तरफ बीजेपी ने सबसे बड़ी पार्टी बनकर आने पर पहले सरकार बनाने की बात कह रही है।

बीजेपी ने दावा किया है कि कांग्रेस और जेडीएस के कई विधायक उसके समर्थन में हैं तो कांग्रेस ने अपने विधायकों को रिजॉर्ट में ले जाने की तैयारी में है। जिससे बीजेपी की विधायकों को तोड़ने में कामयाबी न मिले बेंगलुरु में बुधवार को बैठकों का दौर भी जारी है। कांग्रेस-जेडीएस-बीजेपी अपने विधायकों के साथ बैठक करने में लगे हुए हैं।

पढ़ें:- कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी की नहीं इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की जीत : उद्धव ठाकरे 

कर्नाटक विधानसभा चुनाव : कांग्रेस की बैठक में नहीं पहुंचे 3 विधायक

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस की बैठक शुरू हो गयी है। लेकिन इस बैठक में कांग्रेस की चिंता बढ़ाने वाली बात सामने आयी है। इस बैठक से पार्टी के 3 विधायक राजशेखर पाटिल, नागेन्द्र और आनंद सिंह गायब हैं। साथ ही जेडीएस के भी दो विधायक भी बैठक में नहीं पहुंचे। दूसरी तरफ बीजेपी और जेडीएस भी अपने विधायकों के साथ बैठक करने में लगे हुए हैं। मंगलवार को चुनाव के परिणाम आने के बाद अब इस चुनाव में एक नया मोड़ आ गया है। यहां पर वही अपनी सरकार बना पाएगा जो कूटनीति में भी पारंगत हो।

बता दें कि बीजेपी को बहुमत के लिए सिर्फ 8 विधायकों के समर्थन की जरुरत है। अगर वह कांग्रेस-जेडीएस व निर्दलीय विधायकों को अपने साथ जोड़ने में कामयाब होती है तो उसे सरकार बनाने से कोई नहीं रोक सकता वहीं कांग्रेस महज दो राज्यों में सिमट कर रह जाएगी।

पढ़ें:- कांग्रेस को कर्नाटक के राज्यपाल ने दिया बड़ा झटका, मिलने से किया इंकार 

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे

बीजेपी- 104 सीट
कांग्रेस- 78 सीट
जेडीएस+बसपा- 38 सीट
अन्य- 2 सीट

कांग्रेस अपने विधायकों को भेज सकती है रिजॉर्ट

चुनाव के नतीजे घोषित होने पर बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर आयी है लेकिन वह बहुमत हासिल नहीं कर पायी उसे बहुमत के लिए मात्र 8 विधायकों के समर्थन की जरुरत है। बुधवार को 11 बजे बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली है। जिसमें मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा को पार्टी विधायक दल का नेता चुना जाएगा। इसके बाद येदियुरप्पा से राज्यपाल से आधिकारिक रूप से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

इस बीच नवनिर्वाचित निर्दलीय विधायक आर. शंकर ने बीजेपी नेता ईश्वरप्पा के साथ येदियुरप्पा से मुलाकात की है। ईश्वरप्पा ने दावा किया कि बीजेपी के पास जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों का समर्थन है। वहीं सूत्रों की माने तो कांग्रेस अपने विधायकों को टूटने से बचाने के लिए किसी होटल या रिजॉर्ट में भेज सकती है। जैसा उसने गुजरात में राज्यसभा चुनाव में किया था बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने इग्लटन रिसॉर्ट में अपने विधायकों के लिए कमरे बुक करवाए हैं। बताया जा रहा है कि 120 कमरे बुक कराए गए हैं।

loading...

You may also like

यूपी में नागरिक एकता पार्टी सभी लोकसभा सीटों पर लड़ेगी चुनाव

लखनऊ। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में नवनिर्मित नागरिक