केरल नन केस: मुलक्कल कर रहे राजनीतिक और पैसों की ताकत का इस्तेमाल- नन

कोट्टायम: केरल में एक नन के कथित बलात्कार के आरोपों की जांच का सामना कर रहे ‘बिशप फ्रैंको मुलक्कल’ ने जालंधर डायोसिस की प्रशासनिक जिम्मेदारी फ़िलहाल एक वरिष्ठ पादरी को सौंप दी है। बिशप मुलक्कल ने एक सर्कुलर में कहा, ‘मेरी अनुपस्थिति में मोन्साइनोर मैथ्यू कोक्कन्डम सामान्य रूप से ही डायोसिस का प्रशासन देखेंगे।

ये भी पढ़ें:- अफगानिस्तान:हेलीकॉप्टर में लगी भयंकर आग,पायलट समेत दो शार्पशूटर की मौत

यह सर्कुलर 13 सितंबर को जारी किया गया। इससे एक दिन पहले केरल पुलिस ने 19 सितंबर को उन्हें जांच टीम के समक्ष पेश होने को कहा था। मुलक्कल के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के लिए पुलिस पर बढ़ रहे दबाव के बीच बिशप को समन भेजने का फैसला महानिरीक्षक (एर्णाकुलम रेंज) सखारे की अध्यक्षता में हुई एक मीटिंग के बाद लिया गया। इस मीटिंग में कोट्टायम जिला पुलिस अधीक्षक हरिशंकर और वायकॉम के पुलिस उपाधीक्षक के.सुभाष भी शामिल थे।

ये भी पढ़ें:- भारत: ऑस्ट्रेलिया के म्यूजियम से बरामद की ‘नटराज’ की मूर्ति 

सर्कुलर में बिशप ने कहा कि मामले की जांच जारी है। जाँच कर रही पुलिस द्वारा उनके खिलाफ इकट्ठे किए गए सबूतों में “बहुत से विरोधाभास हैं। इसी दौरान सर्कुलर की एक प्रति को यहाँ की मीडिया को उपलब्ध कराया गया। नन ने हाल ही में न्याय के लिए वेटिकन के तत्काल हस्तक्षेप तथा जालंधर डायोसीस के प्रमुख को उनके पद से हटाए जाने की भी मांग की थी। नन ने ये आरोप भी लगाया था कि बिशप मुलक्कल अपने खिलाफ चल रहे मामले को दबाने के लिए ‘राजनीतिक और पैसों की ताकत’ का इस्तेमाल कर रहे हैं।

loading...

You may also like

वायुसेना उप-प्रमुख के बयान से कांग्रेस को झटका, कहा- राफेल सौदा देश के लिए फायदेमंद

नई दिल्ली। राफेल सौदे को लेकर जहां एक