पुलिस से उठा विश्वास, अगवा सौरभ के परिवार ने मांगी इच्छा मृत्यु

- in Main Slider, क्राइम, ख़ास खबर, लखनऊ
इच्छा मृत्यु

लखनऊ (मोहनलालगंज)। सौरभ को अगवा हुए 83 दिन बीत चुके हैं निगोहाँ पुलिस उसे ढूंढकर लाने के दावे ही करती रही लेकिन आज तक अगवा किशोर सौरभ को आखिर क्यों नहीं मुक्त करा पा रही है। मेरा बेटा वापस नहीं ला सकते हो तो परिवार सहित इच्छा मृत्यु की इजाजत दे दो। यह पीड़ा है एक बेबस माँ रामपियारी की, जो अपने बेटे के लिए आंसू बहा रही हैं।जब की दबंगो द्वारा अगवा किये गये बेटे को मुक्त कराने के लिये पीङिता मुख्यमंत्री,डीजीपी से लेकर आला पुलिस अधिकारियों से बीते ढाई  महीने में दर्जनो बार गुहार लगा चुकी है।लेकिन हर बार उन्हें मात्र आश्वासन ही मिलता है।वही बेटे को अगवा करने वाले दबंगो की धमकी से अजीज पीङिता ने  महामहिम राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री व सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश,राज्यपाल,मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर परिवार सहित इच्छा मृत्यु दिये जाने की माँग की है।

निगोहाँ के शेखपुर लवल की रहने वाली रामप्यारी का आरोप है उसके 14वर्षीय बेटे सौरभ को जबरन अपने ढाबे पर रखकर दखिना निवासी अनमोल तिवारी व उनका भाई छोटू तिवारी जबरन मारपीट कर बधंक बनाकर पाँच माह अपने होटल में  काम कराया।जानकारी होने पर बेटे सौरभ को उक्त दबंगो के चगुंल से छुङाकर 15अक्टूबर2018को घर ले आयी जिसके दूसरे दिन 16अक्टूबर 2018को दबंग किस्म के अनमोल तिवारी अपने भाई छोटू तिवारी सहित3लोगो के साथ घर आ धमके ओर बेटे सौरभ को कार में डालकर जबरन अगवा कर लेकर चले गये‌।जिसके बाद थाने पहुँचकर बेटे को दबंगो द्वारा अगवा किये जाने की शिकायत की तो दबंगो के रसूख के आगे नतमस्तक निगोहा पुलिस ने तहरीर बदलवाकर गुमशुदगी दर्ज कर चलता कर दिया।

  • निगोहाँ के शेखपुर लवल से अगवा हुये किशोर को 83दिन बाद भी नही खोज पायी पुलिस
  • बेबस माँ ने बेटे को तलाशने के लिये सूबे के मुख्यमंत्री ,डीजीपी सहित आला अधिकारियों के यहा लगा चुकी है गुहार,फिर भी नही हुयी कार्यवाही
  • पुलिस से उठा विश्वास तो राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर बेबस माँ ने माँगी 26 जनवरी को परिवार सहित इच्छा मृत्यु

इस मामले में मुख्यमंत्री , डीजीपी से लेकर पुलिस के आलाधिकारियों के कार्यालय तक शिकायत की गई, लेकिन हर बार सिर्फ आश्वासन ही मिले।लापता सौरभ को अगवा करने वालो पर कार्यवाही व बरामदगी के लिए बीते मगंलवार को पीङिता ने सीडीओ से गुहार लगायी तो उन्होने सीओ को मामले की गम्भीरता से जाँच कर दोषियों पर कार्यवाही व किशोर की बरामदगी के निर्देश भी दिये लेकिन उसके बाद 83दिनो से सौरभ बेसुराग है। पीङिता रामप्यारी का कहना है कि पुलिस से उनका विश्वास उठ चुका है। मुख्यमंत्री से भी मिली इसके बावजूद उनके बेटे की बरामदगी नहीं हो सकी। प्रधानमंत्री को भी पत्र भेजा लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई।वही बेटे को अगवा करने वाले दबंग आये दिन धमकाते है मुँह बन्द रखो वरना पुरे परिवार को जान से मार देगे।

राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर माँगी इच्छा मृत्यु

बेबस व लाचार माँ की बेटे  तलाशने के लिये आधिकारियों की चौखटो के चक्कर लगाने के बाद भी न्याय ना मिलने के चलते अब थक हार कर महामहिम राष्ट्रपति व सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश सहित प्रधानमंत्री,राज्यपाल,मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर परिवार सहित 26जनवरी के दिन इच्छा मृत्यु दिये जाने की माँग की है।

अब तक की जांच का कोई पता नहीं चला

निगोहाँ पुलिस हर बार नए सिरे से जांच करने का आश्वासन देकर परिवार को चुप बैठने की कहती है, लेकिन यह नहीं बताती है कि आखिर अब तक की जांच का क्या हुआ। परिवारीजनों का कहना है कि उन्हेें बताया जाए कि पुलिस ने आज तक क्या किया है।वही पुलिस केवल किशोर के बाहर किसी प्रदेश में डर केमारे भाग कर काम करने की बात अफसरो को बताकर मामले को ठंडे बस्ते में डाल रखा है।

सुलह के लिये सिपाही घर पर फेक गया 10हजार रूपये

पीड़ित महिला रामप्यारी ने आरोप लगाते हुए बताया कि आरोपितों के विरुद्ध कार्यवाहीं न करने के लिए निगोहां थाने का एक सिपाही उनके घर पर आकार 10 हजार रुपए जमीन पर फेकते हुये कहने लगे यह तुम्हारे बेटे की मजदूरी है और अब सुलह हो जाओ। सुलह करने से मना करने पर सिपाही भङक गया ओर पैसे वही छोङकर अजांम‌ भुगताने की धमकी देते हुये वापस लौट गया।

यहाँ रुपये गिने नही तौले जाते है

पीड़ित महिला रामप्यारी का यह भी आरोप है कि कुछ दिन पूर्व जब वह आरोपितों से अपने बेटे के लिए गयी तो आरोपित छोटू तिवारी ने उन्हें धमकी देते हुए कहा कि बेटे की तलाश में पैसा लगता है इस पर महिला ने कहा कि मेरे बेटे को वापस कर दो 10-20 हजार ले लेना इस पर छोटू ने कहा कि यहां रुपये गिने नही तौले जाते हैं । इतने पैसों में तुम्हरा बेटा नही मिलेगा।बेटे के बराबर पैसो तौलोगी तभी तुम्हारा बेटा मिलेगा।

किशोर की गुमशुदगी दर्ज है निगोहाँ थाना प्रभारी स्वंय मामले की जाँच कर रहे है ओर किशोर के बरामदी के प्रयास में लगे हुये है।जिन लोगो पर महिला ने बेटे को अगवा करने के आरोप लगाये है जाँच में वो आरोप निराधार निकले है।

आर के शुक्ला, सीओ, मोहनलालगंज

Loading...
loading...

You may also like

कर्मयोगी और अनन्य राष्ट्रभक्त थे मनोहर पर्रिकर: डॉक्टर चन्द्रेश

🔊 Listen This News सिद्धार्थनगर। महान कर्मयोगी और