Main Sliderख़ास खबरफैशन/शैलीस्वास्थ्य

सेहत और पोषण के लिहाज से जाने कौन सा चावल हैं फायदेमंद

लाइफ स्टाइल डेस्क।  देखा जाये तो चावल भी हमारी सेहत को कई प्रकार की समस्याओं से अवगत कराता हैं। बताना चाहूंगी की जैसे- खांसी और मोटापे का बढ़ना कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं। चावल कई परतों से मिलकर बना होता हैं । इन परतों को हटाने की प्रक्रिया में ही ब्राउन राइस और व्हाइट राइस तैयार होता हैं । व्हाइट राइस और ब्राउन राइस को लेकर आपने कई लोगों को बहस करते देखा-सुना होगा, लेकिन क्या सच में आपको भी मालूम है कि दोनों में से कौन-सा चावल आपके लिए बेहतर होता हैं ,आईये आपको बता कि पोषण और सेहत के लिहाज से आपके लिए कौन-सा चावल फायदेमंद होगा।

1. ब्राउन राइस
चावल की सबसे बाहर की लेयर को निकालने के बाद ब्राउन राइस बनता हैं । केवल बाहर की लेयर निकलने से इसमें सारा पोषण बरकरार रहता हैं। यह उन लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है, जो पूरी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हैं और वजन कम करना चाहते हैं। ब्राउन राइस में फाइबर, प्रोटीन और विटामिन काफी मात्रा में होते हैं। ब्राउन राइस को जब और सफाई और भूसी हटाने के लिए मील में भेजा जाता है, तो वहां चावल की पॉलिशिंग की जाती है। इस प्रक्रिया में चावल की एक और लेयर(एलियोरीन) निकल जाती है। यह व्हाइट राइस बन जाता है। इस प्रक्रिया में अधिकतम पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं।

हालांकि इसमें कार्बोहाइड्रेट अधिक होता हैं ।
ब्राउन राइस में व्हाइट राइस की तुलना में वसा की मात्रा अधिक होती हैं । व्हाइट राइस को पॉलिश किया जाता है, इसलिए इसमें वसा की मात्रा कम होती है। एक कटोरी ब्राउन राइस में 206 से 216 कैलोरी होती हैं । इसके साथ ही इसमें आयरन, बी1 और बी3 जैसी अन्य आवश्यक विटामिन होते हैं। वहीं, पके हुए एक कटोरी सफेद चावल में 206 कैलोरी होते हैं और यह फाइटिक एसिड फ्री होता है।

2. पाचन:
व्हाइट राइस में फाइबर और प्रोटीन की मात्रा कम होने के कारण ये बिना किसी परेशानी के आसानी से पच जाते हैं। वहीं, फाइबर की मात्रा अधिक पाए जाने के कारण ब्राउन राइस को पचाने में थोड़ी परेशानी होती है। डायबिटीज है तो खाएं ब्राउन राइस
ब्राउन राइस डायबिटीज वाले लोगों के लिए अच्छा विकल्प है क्योंकि इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स यानी जीआई कम हैं । व्हाइट राइस की तुलना में ब्राउन राइस खाने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ता नहीं हैं ।

रोजाना ब्राउन राइस खाने से डायबिटीज होने का खतरा भी कम हो जाता है।ब्राउन राइस में एंटी ऑक्सीडेंट भी पाए होते हैं इसलिए यह एजिंग को भी रोकता है। इसमें व्हाइट राइस की तुलना में सैलेनियम की ज्यादा मात्रा होती हैं जो कि हार्ट डिसीज, कैंसर और गाठिया जैसी गंभीर बीमारी से दूर रखता हैं ।

ब्राउन राइस कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मददगार हैं । इससे धमनियां ब्लॉक नहीं होती हैं और दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता हैं । ब्राउन राइस में कई नेचुरल ऑइल होते हैं, जो कि बुरे कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कंट्रोल रखते हैं।पाचन के लिहाज से व्हाइट राइस बेहतर हो लेकिन सेहत की बात करें तो एक्सपर्ट भी मानते हैं कि व्हाइट राइस की तुलना में ब्राउन राइस खाना ज्यादा फायदेमंद होता हैं ।

loading...
Tags