सिपेट कॉलेज पर कृष्ण के पिता ने लगाया लापरवाही का आरोप, छात्रों ने मचाया हँगामा

- in Main Slider, क्राइम, लखनऊ

लखनऊ। सरोजनीनगर के नादरगंज स्थित सिपेट कॉलेज में सोमवार को बीटेक प्रथम वर्ष छात्र कृष्ण मुरारी यादव की हुई मौत के मामले में कॉलेज के छात्रों ने मंगलवार को फिर कॉलेज परिसर में हंगामा किया। उन्होंने कालेज प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कक्षाएं नहीं चलने दी। जिसकी वजह से पूरे दिन कॉलेज में पढ़ाई नहीं हो सकी। वहीं सूचना मिलने के बाद मृतक छात्र के परिजन भी कालेज पहुंचे और छात्रों से जानकारी ली।

बेटे कृष्ण मोहन और बेटी के साथ कॉलेज पहुंचे मृतक छात्र कृष्ण मुरारी के पिता हरि कृष्ण ने इस मामले में कालेज प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि गंभीर हालत में पड़े कृष्ण मुरारी को कालेज प्रशासन द्वारा समय से अस्पताल नहीं पहुंचाया गया। यदि कॉलेज में उसे चिकित्सा सुविधा मिल जाती या फिर समय से उसे अस्पताल पहुंचा दिया जाता तो शायद बेटे की मौत न होती।

ये भी पढ़ें:-ओम ब्वॉयज हॉस्टल में दोस्त के कमरे में मिला बीटेक के छात्र का शव

उनका आरोप था कि कॉलेज प्रशासन छात्रों से फीस के साथ उनकी चिकित्सा सुविधा के लिए शुल्क जमा कराता है, लेकिन कृष्ण मुरारी को अस्पताल ले जाने के लिए उनके पास कोई वाहन सुविधा नहीं मिली। इस मामले को लेकर मृतक छात्र कृष्ण मुरारी के पिता हरि कृष्ण यादव मंगलवार को कालेज प्रशासन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने सरोजनीनगर थाने पहुंचे, लेकिन वहां थाना प्रभारी के न मौजूद होने के कारण उन्हें वापस लौटना पड़ा। उधर पुलिस का कहना है कि पीडि़त परिजनों की ओर से तहरीर मिलने पर रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें:-वीडीएम एकेडमी की बच्चों से भरी बस ने बाइक सवार को रौंदा, मौत 

बताते चलें कि मूल रूप से बलिया जिले के परानपुर थानांतर्गत शिवपुरा व झारखंड के बोकारो निवासी हरि कृष्ण यादव के बेटे व सरोजनीनगर के अमौसी औद्योगिक क्षेत्र (नादरगंज) स्थित सेंट्रल इंस्टीट्यूट आफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट में) पढ़ाई कर रहे बीटेक प्रथम वर्ष के छात्र कृष्ण मुरारी (19) की सोमवार सुबह कॉलेज परिसर स्थित हॉस्टल के बाथरूम में गिरकर मौत हो गई थी।

loading...
Loading...

You may also like

महिलाओं के खिलाफ हो रहे भेदभाव से देश का विकास प्रभावित- UNICEF

 नई दिल्ली। UNICEF के अनुसार भारत में महिलाओं