…और जब शराब कारोबारियों ने गाया राष्ट्रीय गान, शराब की दुकानों का आवंटन टला

शराब की दुकानों का आवंटनशराब की दुकानों का आवंटन

 

लखनऊ। गुरूवार को वर्ष 2018-19 के लिए शराब की दुकानों की आवंटन प्रक्रिया होनी थी। पारदर्शिता को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष ई-लाटरी के जरिए सरकारी शराब की दुकानों का आवंटन होने था, लेकिन तकनीकी खराबी के चलते ई-लाटरी देर शाम तक शुरू नहीं हो सकी थी। गन्ना संस्थान में मौजूद आवेदक दिन भर परेशान रहे और वहां मौजूद अधिकारियों से बार-बार पूछताछ करते रहे। देर शाम तक लाटरी प्रक्रिया शुरू होने पर आवेदकों ने राष्ट्रीय गान शुरू कर दिया। राष्ट्रगान सुनते ही आबकारी अधिकारी और कर्मचारी सकते में आ गए। स्टेज पर बैठे सभी अधिकारी कुर्सी से उठकर सावधान की स्थित में राष्ट्रगान के स मान में खड़े हो गए। आबकारी अधिकारी संतोष तिवारी ने बताया कि तकनीकी कारणों से एनआईसी से लिंक नहीं आ पा रहा है कि जिसके चलते लाटरी प्रक्रिया शुरू होने में व्यवधान आ रहा है। उन्होंने शाम करीब 5.30 बजे आवेदकों को सूचित किया रात 9 बजे से लाटरी प्रक्रिया शुरू होगी। उसके बाद भी इसके बाद भी प्रक्रिया पूरी नहीं की जा सकी। आवंटियों का आक्रोश देखते हुए जिला आबकारी अधिकारी ने आवंटन प्रक्रिया को निरस्त करते हुए अगली तारीख बताते हुआ सभी को समझाया।

शराब की दुकानों का आवंटन टला

गुरूवार को सुबह 11 बजे से सरकारी शराब की दुकानों की आवंटन प्रक्रिया होनी थी। सैकड़ों की तादाद में आवेदक सुबह से ही गन्ना संस्थान पहुंच गए थे, लेकिन तकनीकी कारणों के चलते सुबह लाटरी प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई थी। दोपहर बाद करीब 12.30 बजे आवेदकों का सब्र का बांध टूट गया। वे बार-बार लाटरी प्रक्रिया शुरू कराने के लिए कहते रहे थे। मामला बढ़ता चला गया। इस पर मौके पर कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस और आवदेकों के बीच कई बार झड़प भी हुई।

इस पर जिला आबकारी अधिकारी संतोष तिवारी ने शाम 5 बजे से ई-लाटरी प्रक्रिया शुरू करने का आश्वासन दिया। इस पर आवेदक शांत हो गए। धीरे-धीरे शाम 5 बजे का समय भी पार हो गया। आवेदक बार-बार स्टेज पर मौजूद आबकारी आधिकारी से लाटरी शुरू करने के लिए कहते रहे, लेकिन अब आबकारी आधिकारियों के पास कुछ कहने को नहीं था। आवेदकों के सवालों को अधिकारी नजरंदाज करते रहे। इस पर आवेदक आक्रोशित हो गए और हल्ला करने लगे।

शराब कारोबारियों ने गाया राष्ट्रीय गान

सूचना पाकर मौके पर एएसपी सर्वेश मिश्रा भारी पुलिस बल के साथ पहुंच गए और आवेदकों को समझाने का प्रयास करने लगे। इसी बीच आवेदकों ने राष्ट्रीय गान शुरू कर दिया। देखते ही देखते हॉल में सन्नाटा परस गया। स्टेज पर मौजूद आबाकारी और पुलिस अधिकारी आनन-फानन में सावधान की स्थित में राष्ट्रगान के सम्मान में खड़े हो गए। आवेदकों के साथ आधिकारियों ने भी राष्ट्रगान गाया। फिर आवेदक पुन: लाटरी प्रक्रिया शुरू करने का दबाव बनाने लगे।

ये भी पढ़ें : बेंगलुरु: लोकायुक्त पी० विश्वनाथ शेट्टी पर जानलेवा हमला, हालत गंभीर 

जिला आबकारी अधिकारी ने माइक पकड़ कर आवेदकों से क्षमा मांगते हुए कहा कि लाटरी प्रक्रिया आज ही होगी। उन्होंने रात 9 बजे से आवंटन प्रक्रिया शुरू करने का दावा किया। जिसके बाद बाद आवेदक घूमने-टहलने निकल गए। संतोष तिवारी ने बताया कि प्रदेश के सभी जिलों में ई-लाटरी प्रक्रिया आज ही होनी है। कई जिलों में डाटा लॉक नहीं किया गया था। जिसके चलते सा टवेयर में परेशानी हो रही है। उन्होंने बताया कि योजना भवन एनआईसी से लिंक आना था, लेकिन तकनीकी कारणों से लिंक नहीं आ पाया है। उन्होंने कहा कि लाटरी प्रक्रिया हर हाल में 9 बजे से शुरू कर दी जायेगी।

बगैर तैयारी के कर दी घोषणा

शराब एसोसिएशन के महामंत्री कन्हैया लाल मौर्या ने बताया कि आबकारी प्रशासन ने बगैर तैयारी के ई-लाटरी की तारिख घोषित कर दी। जिसका खामियाजा व्यापारियों को उठाना पड़ा है। उन्होंन कहा कि नई आबकारी नीति के चलते व्यापारियों ने अतिरिक्त एक्साइज ड्यूटी लगा दी। आवंटन प्रक्रिया को और भी जटिल बनाते हुए हैसियत प्रमाण पत्र अनिवार्य कर दिया। जिसके चलते शराब व्यापारियों को कई दिनों तक कोर्ट से लेकर अधिवक्ताओं के चक्कर काटने पड़े। कुछ आवेदकों का कहना था कि लाटरी महज एक दिखावा है। ऊंची पहुंच रखने वाले आवेदकों को शराब की दुकाने के आवंटन हो चुके हैं।

ये भी पढ़ें : मूर्तितोड़ राजनीति अपने हद से पार पहुंची, तोड़ दी गयी गांधी की मूर्ति 

904 दुकानों पर पड़े 18 हजार फार्म

सूत्रों की मोने तो अंगे्रेजी, देशी शराब, बियर और मॉडल शॉप की 904 दुकानों के आवंटन गुरूवार को होने थे। इन दुकानों पर 18 हजार फार्म डाले गए हैं। बताया जा रहा है एक ही आवेदक ने अपने परिजन, परिचितों के नाम से 200 से 300 तक फार्म डाल रखे हैं। जिसके चलते फार्म की तादाद आसमान छू गई है। वहीं दूसरी तरफ जिला आबकारी अधिकारी ने बताया कि पारदर्शिता के चलते इस वर्ष ई-लाटरी की प्रक्रिया लागू की गई है। उन्होंने बताया कि लाटरी के लिए पूर्ण रूप से तैयारी थी। उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए सारा दोष इण्टरनेट की स्लो स्पीड पर मढ़ दिया।

loading...

You may also like

मुलायम सिंह के अखिलेश की रैली में पहुंचने से भड़के शिवपाल, कह दी ये बड़ी बात

लखनऊ। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन करने के