LU में अघोषित आपातकाल लागू करना चाहते हैं कुलपति

LULU

लखनऊ । लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन (LU) ने अपनी हठधर्मिता एवं तानाशाही रवैया अपना रहा है ।  शनिवार को  कर्मचारियों की उपस्थिति पंजिका जप्त करा लिया है। जो कर्मचारियों के मौलिक अधिकारों का हनन है।

LU में लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने का संवैधानिक अधिकार

  • यह बात लखनऊ विश्वविद्यालय कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष राकेश यादव ने कही।
  • उन्होंने कहा कि LU के सभी अधिकारीगण, शिक्षकगण और कर्मचारी विवि  के सेवक है।
  • सभी को अपने अधिकारों की रक्षा के लिए लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने का संवैधानिक अधिकार है।
  • परिषद के महामंत्री डॉ. संजय शुक्ला ने कहा कि कुलपति प्रो. एसपी सिंह LU में अघोषित आपातकाल लागू करना चाहते हैं ।

ये भी पढ़ें :-NBRI : शिक्षकों ने पढ़ा पौधों के जीवन का पाठ

कुलपति प्रो. एसपी सिंह मानमानी पर उतारू

  • पूर्व में प्रदेश सरकार द्वारा जारी आदेश न मानकर अपनी मानमानी पर उतारू हैं ।
  • कर्मचारी परिषद के निर्वाचित पदाधिकारियों  से बात के समस्या का समाधान करने के बजाय दमनकारी नीति अपना रहे है।
  • लविवि कर्मचारी परिषद के पदाधिकारियों ने बताया कि आगामी आठ  जनवरी से प्रस्तावित हड़ताल के सम्बंध आम सभा आहूत करने।

विधिक सूचना LU प्रशासन को दी

  • डॉ. संजय शुक्ला ने कहा कि उसके निर्णय की विधिक सूचना LU प्रशासन को दी।
  • इसके साथ ही उप- श्रमायुक्त एवं प्रदेश के उपमुख्यमंत्री  सहित शासन के अधिकारियों को भी पूर्व में ही सूचित किया जा चुका है।
  • डॉ. संजय शुक्ला ने कहा कि हड़ताल के दिन कर्मचारियों की उपस्थिति कर्मचारी परिषद कार्यालय में ही दर्ज करायी जाएगी।
  • जिसकी सूचना उपश्रमायुक्त को प्रेषित की जाएगी।
  • डॉ. संजय शुक्ला ने कहा कि विवि  प्रशासन की दमनकारी नीति स्वीकार नही किया जाएगा।

LU में धरना-प्रदर्शन पर रोक

  • लखनऊ विश्वविद्यालय के प्राक्टर प्रो. विनोद सिंह ने विवि में हड़ताल, नारेबाजी, धरना प्रदर्शन पर रोक लगा दी है ।
  • प्रो. विनोद सिंह ने कहा पढ़ाई का  माहौल खराब न करें।
  • निर्देशों का उल्लंघन पर अपराधिक धाराओं में कार्रवाई होगी।
loading...
Loading...

You may also like

पुलिस स्मृति दिवस पर मुख्यमंत्री योगी ने पुलिसकर्मियों को दिया तोहफा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस