मुन्ना बजरंगी का हत्यारा बागपत से लखनऊ जेल में किया जा सकता है शिफ्ट

सुनील राठीसुनील राठी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार मुन्ना बजरंगी के हत्यारे सुनील राठी को अब बागपत जेल से लखनऊ जेल  में शिफ्ट कर सकती है। यह निर्णय जेल के अफसरों ने लंबी बैठक के बाद ये फैसला किया है।

मुन्ना बजरंगी की हत्या का बदला लेने के लिए राठी पर भी हो सकता है हमला

मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद बदला लेने के लिए राठी पर भी हमला हो सकता है। जेल के एडीजी चंद्र प्रकाश ने कहा कि राठी को बागपत जेल में अब किसी भी हालत में नहीं रखा जा सकता है। बतातें चलें कि बजरंगी को बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का दाहिना हाथ माना जाता था।

ये भी पढ़ें :-तो क्या पूर्वांचल के सफेदपोश ने 10 करोड़ में दी थी मुन्ना बजरंगी की सुपारी

बीते नौ जुलाई को रंगदारी मामले में ही बागपत कोर्ट में मुन्ना बजरंगी की पेशी थी। जिसके लिए उसे झांसी जेल से आठ जुलाई की रात बागपत जिला जेल में शिफ्ट किया गया था। लेकिन नौ जुलाई को पेशी से पहले ही जेल के भीतर गैंगस्टर सुनील राठी ने मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी।

गैंगस्टर सुनील राठी पर दर्ज हैं 25 से 30 मुकदमे

गैंगस्टर सुनील राठी के आपराधिक इतिहास को देखें तो उस पर 25 से 30 मुकदमे दर्ज हैं। जिनमें ज्यादातर मुकदमे रंगदारी वसूली और हत्या के हैं। जाहिर है सुनील और मुन्ना बजरंगी के क्राइम करने का तरीका एक जैसा ही है। सुनील पर भी व्यपारियों से हफ्ता वसूली, रंगदारी और हत्या कराने के कई मामले दर्ज हैं। वहीं मुन्ना बजरंगी भी रंगदारी और सुपारी लेकर हत्या करने में माहिर था। अब  बजरंगी के खात्मे के बाद क्या सुनील राठी उसकी जगह लेगा?

सुनील राठी  भी 21 साल की उम्र में उठाए थे हथियार

मुन्ना बजरंगी की तरह सुनील राठी ने भी 21 साल की उम्र से ही हथियार उठा लिए थे। बागपत जिला कारागार में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कुख्यात अपराधी सुनील राठी ने 21 साल की उम्र से हत्या, लूट और रंगदारी की वारदातों को अंजाम दिया। वर्तमान समय में सुनील राठी की मां राजबाला चौधरी भी रंगदारी के मामले में रुड़की जेल में बंद हैं।

loading...
Loading...

You may also like

हादसा, हकीकत या श्राप का साया है,कालभैरव रहस्य 2

लखनऊ । भारत में मिथक और लोक कथाओं